नई दिल्ली: पांच राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम के नतीजे आने के साथ ही राजनीतिक समीकरण बदल गए हैं. मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बीजेपी पिछले 15 सालों से सत्ता में थी. दोनों ही राज्य उसके हाथ से निकल गए हैं. छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को एकतरफा बहुमत मिला है वहीं मध्य प्रदेश में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. तीन राज्यों में हार के साथ ही बीजेपी और उसके सहयोगी दलों की 16 राज्यों में सरकारें बची हैं. दो महीने पहले तक वह 20 राज्यों में सत्ता में थी. हालांकि एकतरह से देंखें तो वह 14 राज्यों में ही सत्ता में हिस्सेदार है.

कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी होते हुए भी बीजेपी सरकार नहीं बना पाई थी. यहां कांग्रेस ने जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बना ली थी. जम्मू-कश्मीर में भी पीडीपी से समर्थन लेने के बाद अब यहां भी बीजेपी की सरकार नहीं है. अगर बीजेपी मध्य प्रदेश में सरकार नहीं बना पाती है तो उसकी सरकार 16 राज्यों में रह जाएगी.

दूसरी ओर कांग्रेस की पुड्डीचेरी और पंजाब में सरकार है. कर्नाटक में वह जेडीएस के साथ गठबंधन सरकार का हिस्सा है. राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार बनाने जा रही है. इसके अलावा मध्य प्रदेश में भी उसके सरकार बनाने के आसार हैं. इस तरह से देखें तो कांग्रेस की 6 राज्यों में सरकार हो जाएगी. हालांकि अब भी वह बीजेपी से बहुत पीछे है.

बीजेपी शासित राज्य
उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल, झारखंड, हरियाणा, गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, बिहार, असम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, नगालैंड, त्रिपुरा और मेघालय.

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद बीजेपी ने कई राज्यों में जीत हासिल की. इनमें से अधिकांश वे राज्य थे जिसमें कांग्रेस की सरकार थी. बीजेपी को सबसे बड़ी कामयाबी 403 विधानसभा सीटों वाले राज्य उत्तर प्रदेश में मिली जहां उसने 300 से ज्यादा सीटें जीतकर सरकार बनाई. दो महीने पहले तक बीजेपी की जम्मू-कश्मीर में भी सरकार थी लेकिन पीडीपी से समर्थन लेने के बाद यहां भी बीजेपी सत्ता से बाहर है.