नई दिल्ली: राजस्थान और तेलंगाना में 7 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार बुधवार शाम थम जाएगा. राजस्थान की 200 और तेलंगाना की 119 सीटों पर वोटिंग होनी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को राजस्थान में दो जनसभाओं को संबोधित करेंगे. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव प्रचार के अंतिम दिन तेलंगाना में होंगे. Also Read - पीएम मोदी ने ब्राजील के राष्ट्रपति से की फोन पर बात, कोरोना संकट से निपटने को लेकर हुई चर्चा

पीएम मोदी मोदी बुधवार को सुमेरपुर (पाली) और दौसा में जनसभा को संबोधित करेंगे. मोदी की इन सभाओं का कार्यक्रम अंतिम समय में बनाया गया है. खुद मोदी ने मंगलवार शाम जयपुर में एक सभा संबोधित करते हुए कहा कि वह कल फिर राजस्थान में प्रचार के लिए आएंगे. मोदी ने सोमवार को जोधपुर में तथा मंगलवार को हनुमानगढ़, सीकर व जयपुर में तीन सभाएं कीं. Also Read - Covid-19: राहुल गांधी ने अमेठी में शुरू कराया सेनिटाइजर और मास्क का वितरण

तेलंगाना चुनाव से पहले UPA अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मतदाताओं से की भावुक अपील, देखिए Video Also Read - कोरोना वायरस: 8 अप्रैल को राजनीति दलों के नेताओं से वीडियो कांफ्रेंसिंग पर बात करेंगे पीएम मोदी

दूसरी ओर राहुल गांधी तेलंगाना में गठबंधन के लिए चुनाव प्रचार करेंगे. राहुल उत्तम पद्मावतीनगर में रैली को संबोधित करेंगे. कांग्रेस की अगुवाई में बने पीपल्स फ्रंट ने विधानसभा चुनाव में 80 से ज्यादा सीटें जीत कर सरकार बनाने का दावा किया है.

तेलंगाना में उल्लुओं के दम पर चुनाव लड़ रहे नेता, विरोधी के भाग्य को दुर्भाग्य में बदलने की ‘चाल’

कांग्रेस के तेलंगाना प्रभारी ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगु देशम पार्टी के प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू बुधवार को राज्य के सूर्यपेट जिले के कोडाड में चुनावी रैली को संबोधित करेंगे. उन्होंने कहा कि हमारा अनुमान है कि कांग्रेस नीत पीपल्स फ्रंट 80 से ज्यादा सीटें जीतकर तेलंगाना में निश्चित ही सत्ता में आ रहा है.

सोनिया गांधी की रैली के बाद बदल रहे हैं समीकरण, टीआरएस से कड़ा मुकाबला

वहीं बीजेपी का कहना है कि तेलंगाना में बिना उसकी पार्टी के सहयोग से कोई सरकार नहीं बनेगी. बीजेपी नेता वी राम माधव ने मंगलवार को कहा कि राज्य में उनकी पार्टी के बिना अगली सरकार नहीं बनेगी. भाजपा का दृष्टिपत्र जारी करने के दौरान माधव ने कहा, ‘हम चुनाव जीतने के लिए लड़ रहे हैं. मैं आपसे एक चीज स्पष्ट कह सकता हूं. भाजपा के बिना तेलंगाना में अगली सरकार नहीं बनेगी.’

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2019 से पहले पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव को सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा है. छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में बीजेपी पिछले 15 सालों से सत्ता में है वहीं मिजोरम में कांग्रेस पिछले 10 सालों से सत्ता में है. राजस्थान में हर 5 साल पर सरकार बदलने की परंपरा रही है. तेलंगाना में समय से पहले चुनाव हो रहे हैं. सभी राज्यों के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे.