नई दिल्ली: महाराष्ट्र में भले ही बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिलते दिख रहा है, लेकिन कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन ने भी पूरा जोर लगाते हुए सीटों में बढ़ोत्तरी की है. महाराष्ट्र में बीजेपी की सीटें घट सकती हैं. वहीं, हरियाणा में बीजेपी को बहुमत मिलते नहीं दिख रहा है. बहुमत के लिए 90 में से 46 सीटों की ज़रूरत है, लेकिन बीजेपी 40 से कम पर सिमटते हुए दिख रही है. वहीं, कांग्रेस को 32 सीटें मिलते दिख रही हैं. कांग्रेस को 2014 में सिर्फ 15 सीटें हासिल हुई थीं.

कांग्रेस ने हरियाणा ने जेजेपी के साथ सरकार बनाने की कोशिशें शुरू कर दी हैं. वहीं, चुनावी नतीजों से कांग्रेस आलाकमान में खुशी देखी जा रही है. चुनावी नतीजों को लेकर किए गए सवाल पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने खुशी जताई है. प्रियंका ने सवाल का मुस्कुराकर हुए जवाब देते हुए कहा कि दोनों जगहों के नतीजों पर हम खुश हैं. उन्होंने कहा कि ‘हम बहुत खुश हैं. यूपी में भी कांग्रेस का वोट प्रतिशत बढ़ा है.’

हरियाणा में कांग्रेस का आरोप: निर्दलियों पर दबाव बना रही BJP, बुलाने के लिए भेजे जा रहे हेलीकॉप्टर

बता दें कि हरियाणा के सभी नब्बे सीटों के शुरुआती रुझान आ चुके हैं. आज से पहले यह माना जा रहा था कि भाजपा की एकतरफा जीत होगी और कांग्रेस को करारी शिकस्त मिलेगी, लेकिन नतीजे कुछ और ही कह रहे हैं. मंत्री कैप्टन अभिमन्यु सहित सरकार के सात मंत्री अपनी सीट से पीछे चल रहे हैं. बीजेपी ने 75 सीटें हासिल करने का अभियान चलते हुए नारा दिया था, लेकिन अब तक आए रुझानों में पार्टी बहुमत से बीजेपी रहते हुए 38 सीटों पर सिमटते दिख रही है. कांग्रेस को 31 सीटें मिलते दिख रही हैं. जबकि जेजेपी 10, आईएनएलडी व अन्य के खाते में 12 सीटें जाते दिख रही हैं.

बताया जा रहा है कि 10 सीटों पर आगे चल रही जननायक जनता पार्टी के मुखिया दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) को कांग्रेस ने डिप्टी सीएम पद ऑफर किया है. कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि सभी गैर बीजेपी दलों को साथ में आना चाहिए.

हरियाणा में किंगमेकर बन सकते हैं चौधरी देवी लाल के परपोते दुष्‍यंत चौटाला, US से पढ़े हैं…

हरियाणा में तमाम दावे फेल होने के बाद बीजेपी में हलचल मच गई है. पार्टी आलाकमान ने सीएम मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) को दिल्ली आपात बैठक के लिए बुला लिया है. जबकि हरियाणा में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला (Subhash Barala Resign) ने इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने उम्मीद के मुताबिक़ नतीजे नहीं आने पर पद छोड़ दिया है. सूत्रों के मुताबिक़ उन्होंने अमित शाह को इस्तीफा दिया है. सुभाष बराला टोहना विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में हैं, लेकिन वह खुद ही जेजेपी के उम्मीदवार देवेंद्र सिंह से पीछे चल रहे हैं.