चंडीगढ़: हरियाणा में सोमवार को हुए विधानसभा चुनावों में 65.75 फीसदी वोट पड़े जो 2014 के चुनावों की तुलना में काफी कम है जब भाजपा राज्य में सत्ता में आई थी. पुलिस ने बताया कि नूंह गांव में दो समूहों के बीच पथराव में सात लोग जख्मी हो गए और रोहतक, नारनौल तथा बहादुरगढ़ जिलों में ‘‘मामूली घटनाएं’’ हुईं. लेकिन उन्होंने कहा कि 90 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव सामान्यत: शांतिपूर्ण रहा. 2014 के विधानसभा चुनावों में मतदान करीब 76.54 फीसदी हुआ था जबकि इस वर्ष लोकसभा चुनावों में दस संसदीय सीटों पर 70.36 फीसदी वोट पड़े थे.

वर्तमान में राज्य विधानसभा में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के 48 सदस्य हैं जबकि कांग्रेस के 17 विधायक हैं. विधानसभा चुनाव में 1169 उम्मीदवार खड़े थे जिनमें प्रमुख हैं मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, जननायक जनता पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला और इंडियन नेशनल लोकदल के अभय सिंह चौटाला. भाजपा से रामबिलास शर्मा, अनिल विज, कैप्टन अभिमन्यु, ओ पी धनखड़ और कविता जैन जहां चुनाव मैदान में हैं वहीं कांग्रेस से रणदीप सिंह सुरजेवाला, किरण चौधरी, रणबीर महेन्द्र और कुलदीप बिश्नोई चुनाव लड़ रहे हैं. भाजपा ने टिक टॉक स्टार सोनाली फोगाट और तीन खिलाड़ियों बबिता फोगाट, योगेश्वर दत्त तथा संदीप सिंह को उम्मीदवार बनाया .

Assembly Elections 2019: महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा की प्रचंड जीत के आसार, एग्जिट पोल में कांग्रेस को झटका

हरियाणा के एडीजीपी (कानून-व्यवस्था) नवदीप सिंह विर्क ने ट्वीट किया, ‘‘संपूर्ण स्थिति शांतिपूर्ण रही.’’ हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल के साथ शाम में संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि नूंह, रोहतक और नारनौल जिलों में ‘‘झड़प की छोटी-मोटी घटनाएं’’ हुईं. इसमें कुल 13 प्राथमिकियां दर्ज की गईं. उन्होंने कहा कि नूंह जिले में गोलीबारी की दो घटनाएं हुईं लेकिन ये चुनाव से जुड़ी हुई नहीं थीं. पुलिस ने बताया कि मेवात क्षेत्र के नूंह जिले के मलाका गांव में मतदान केंद्र के बाहर गांव के एक सरपंच और एक पूर्व प्रमुख के समर्थकों के बीच हुयी झड़प में एक महिला सहित सात लोग जख्मी हो गए.

नूंह की पुलिस अधीक्षक संगीता कालिया ने कहा कि दो स्थानीय नेताओं के बीच बहस हो गई और इसके बाद पथराव शुरू हो गया. उन्होंने कहा, ‘‘बहरहाल, चुनाव प्रक्रिया बाधित नहीं हुई.’’ रोहतक और बहादुरगढ़ जिलों में भाजपा और कांग्रेस समर्थकों के बीच मामूली लड़ाई की घटनाएं सामने आईं. खट्टर के नेतृत्व में भाजपा ने 90 विधानसभा सीटों में से 75 पर जीत का लक्ष्य तय किया है जबकि कांग्रेस सत्ता में वापसी के लिए लड़ रही है. चौटाला परिवार में बिखराव के बाद दस महीने पहले अस्तित्व में आई जजपा चुनावों में मुख्य प्रतिद्वंद्वी के तौर पर उभरकर सामने आई है.

महाराष्ट्र में बसपा नेता ने EVM पर फेंकी स्याही, ईवीएम मुर्दाबाद के नारे लगाए, VIDEO

इनेलोद- शिरोमणि अकाली दल गठबंधन, आम आदमी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी और स्वराज इंडिया भी चुनाव मैदान में हैं लेकिन इनमें से कोई भी 90 सीटों पर चुनाव नहीं लड़ रहा है. अधिकारियों ने बताया कि टोहाना सहित कुछ मतदान केंद्रों पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में खराबी आई लेकिन उन्हें तुरंत ठीक कर लिया गया और चुनाव प्रभावित नहीं हुआ. जजपा नेता दुष्यंत चौटाला ने आरोप लगाया कि जींद जिले के दुमेरखा कलां गांव के एक मतदान केंद्र पर पुलिस अधिकारियों की मिलीभगत से ‘‘फर्जी वोट’’ डाले गए. कई स्थानों पर शहरी इलाकों की तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से वोट पड़े.