नई दिल्ली: मिजोरम के नवनिर्वाचित विधायकों में से आधे पहली बार विधायक बने हैं. 40 सदस्यीय विधानसभा के लिए हुए चुनाव में 20 सीटों पर चुने गए प्रत्याशी पहली बार विधायक बने हैं. चुनाव में मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) को 26 सीटों पर जीत मिली है, जिनमें से 14 पहली बार विधायक चुने गये हैं. जोराम पीपल्स मूवमेंट (जेडपीएम) के आठ विधायकों में से भी पांच पहली बार विधायक निर्वाचित हुए हैं. पांच कांग्रेस विधायकों में से भी एक विधायक नया है. पहली बार विधायक बनने वालों में शामिल एमएनएफ के टी जे ललनुंतलुआंगा ने निवर्तमान मुख्यमंत्री लल थनहवला को चंफई दक्षिण सीट पर हराया है.

चंफई जिले में पूर्वी तुईपुई सीट से चुने गये एमएनएफ के रामथनमाविया की उम्र 61 वर्ष है, जो पहली बार बने विधायकों में सबसे उम्रदराज हैं, तो वही चंफई उत्तर सीट से निवार्चित एमएनएफ के ही डॉ. जेड आर थियामसांगा की उम्र 60 साल है. भारतीय विदेश सेवा में उनका 38 वर्ष का करियर रहा है. सरना पांच नवंबर 2016 को अमेरिका में भारत के राजदूत बने थे.

मिजोरम में नई सरकार का गठन शनिवार दोपहर 12 बजे किया जाएगा. मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के प्रमुख जोरमथंगा पद और गोपनीयता की शपथ के साथ ही मिजोरम के अगले मुख्‍यमंत्री बन जाएंगे. बता दें कि मिजोरम के राज्यपाल के. राजशेखरन ने बुधवार को ही आधिकारिक रूप से मिजो नेशनल फ्रंट को सरकार बनाने का न्योता भेजा था.

मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के प्रमुख जोरमथंगा ने मंत्री पद के लिए निर्वाचित विधायकों के नाम राज्यपाल को भेज दिये हैं. एमएनएफ विधायक दल के सचिव लालरूतकिमा ने यह जानकारी दी. हालांकि उन्होंने मंत्री पद की शपथ लेने जा रहे विधायकों की संख्या पर कुछ नहीं कहा. जोरमथंगा शनिवार दोपहर 12 बजे अपने मंत्रियों के साथ राजभवन में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. मिजोरम के राज्यपाल के राजशेखरन ने बुधवार को आधिकारिक रूप से मिजो नेशनल फ्रंट को सरकार बनाने का न्योता भेजा था.

विधानसभा सचिवालय में मौजूद सूत्रों के मुताबिक राज्यपाल ने अगले मंगलवार को नई विधासभा का सत्र बुलाने के लिये समन जारी किया है. यह सत्र 39 नए विधायकों के शपथ लेने तक तीन और उससे ज्यादा दिन तक जारी रह सकता है. लालरूतकिमा ने कहा कि शनिवार को शपथ ग्रहण समारोह के दौरान राष्ट्रगान की धुन बजायी जाएगी. इसके बाद बाइबिल पढ़ी जाएगी और फिर प्रार्थना की जाएगी. गौरतलब है कि मिजोरम में मंगलवार को आए विधानसभा चुनाव के नतीजों में मिजो नेशनल फ्रंट ने सबसे ज्यादा सीटें जीतकर सरकार बनाने का दावा पेश किया है.