नई दिल्ली: पांच राज्यों के चुनाव प्रचार में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का मंदिर दौरा भी सुर्खियों में रहा. तीन राज्यों- मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में राहुल गांधी ने सभी प्रमुख मंदिरों का दौरा किया. बीजेपी ने राहुल के टैंपल रन को मुद्दा भी बनाया था. पार्टी के स्टार प्रचारकों में से एक यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक रैली में कहा था कि राहुल मंदिरों में तो जाते हैं, लेकिन उन्‍हें पूजा करनी नहीं आती. नतीजे आने के बाद ये सवाल तो बनता है कि आखिर कांग्रेस को इसका कितना लाभ मिला. Also Read - Madhya Pradesh: 'Tandav' के खिलाफ दो शहरों में FIR, बीजेपी नेता ने उद्धव ठाकरे को भेजा पत्र

राहुल गांधी तीन राज्यों में जिन मंदिरों में गए वहां 68 सीटों पर इन मंदिरों का प्रभाव है. मध्य प्रदेश में राहुल ने मंदिरों में जाकर 28 सीटों को कवर किया, इसमें से कांग्रेस को 13 सीटें मिलीं. राजस्थान में राहुल गांधी तीन मंदिरों में गए.  28 सीटों पर इन मंदिरों का प्रभाव है. कांग्रेस को इनमें से 12 सीटें मिलीं. वहीं छत्तीसगढ़ में राहुल गांधी दो मंदिरों में गए. यहां मंदिरों का 12 सीटों पर प्रभाव है. कांग्रेस को इनमें से 10 सीटों पर जीत मिली. Also Read - रेप के आरोपों का सामना कर रहे Dhananjay Munde के खिलाफ कार्रवाई को लेकर NCP प्रमुख शरद पवार ने कही यह बात..

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और बीजेपी के स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ ने अलवर में हनुमान को दलित बताया था. अलवर जिले की 11 सीटों में से बीजेपी को सिर्फ दो सीटें मिलीं. पिछले चुनाव में बीजेपी ने यहां 9 सीटें जीती थीं. हालांकि कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुष्कर में अपना गोत्र बताया था, लेकिन पार्टी यह सीट हार गई. Also Read - Rajasthan Latest News: सचिन पायलट समर्थक MLA गजेंद्र सिंह शक्तावत का निधन, CM गहलोत ने जताया शोक

हालांकि ऐसा नहीं है कि पहली बार चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने मंदिरों का दौरा किया. पिछले साल दिसंबर में हुए गुजरात के विधानसभा चुनाव से राहुल गांधी ने इसकी शुरुआत की थी. मोदी के गृहराज्य में कांग्रेस चुनाव तो नहीं जीत पाई थी लेकिन अपनी सीटें बढ़ाने और हार के अंतर को कम करने में कामयाब रही थी. कर्नाटक के विधानसभा चुनाव में भी राहुल ने मंदिरों का दौरा किया.

चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी के मंदिर दर्शन के मामले में कांग्रेस का कहना था कि मध्य प्रदेश में मंदिरों का दौरा करना गांधी परिवार की परंपरा रही है. राहुल गांधी का मंदिर जाना उसी का हिस्सा है. इंदिरा गांधी ने अपने जीवन में तीन बार दतिया में पितंबरा पीठ का दौरा किया था और राजीव गांधी एक बार यहां आए थे. राहुल गांधी ने भी यहां दर्शन किए थे. बीजेपी के हिन्दुत्व का मुकाबला कांग्रेस सॉफ्ट हिन्दुत्व से कर रही है. इसके सहारे कांग्रेस अपने मुस्लिम परस्त होने की छवि को भी तोड़ रही है.