लखनऊ. केंद्र में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद देश के विभिन्न राज्यों में हुए चुनाव में पीएम मोदी को भारतीय जनता पार्टी की ओर से ‘चुनाव-जिताऊ चेहरा’ या पार्टी के मुख्य प्रचारक के तौर पर पेश किया गया है. उत्तर प्रदेश, गुजरात, हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों में हुए चुनावों में यह बात और साफ भी हुई. पीएम मोदी के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, भाजपा के स्टार प्रचारक हैं. लेकिन वर्तमान हालात अब ऐसे नहीं रह गए हैं. भाजपा में पीएम मोदी के साथ-साथ अब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Aadityanath) भी स्टार प्रचारक की भूमिका में आ गए हैं. कहीं-कहीं तो योगी आदित्यनाथ, पीएम मोदी के मुकाबले ‘बीस’ साबित होते हैं. आपको यकीन न आ रहा हो तो देश के पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों में भाजपा के प्रचार अभियान पर गौर कर देख लें. योगी आदित्यनाथ ने इन सभी राज्यों में पीएम मोदी के मुकाबले ज्यादा चुनावी सभाएं की हैं. और तो और चुनाव लड़ रहे नेताओं के बीच भी योगी की डिमांड ज्यादा है.

ईवीएम विवाद के बाद बाबूलाल गौर और विधायक उषा ठाकुर के वायरल वीडियो ने भाजपा को किया परेशान

3 राज्यों में योगी ने की 50 से ज्यादा सभाएं
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विधानसभा चुनाव वाले राज्यों राजस्थान, छत्तीसगढ़ एवं मध्य प्रदेश में प्रचार के लिए ऐसे नेता बनकर उभरे हैं, जिनकी सबसे ज्यादा मांग है. इन राज्यों में पार्टी का भविष्य दांव पर लगा हुआ है. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने सोमवार को बताया कि योगी ने इन तीन राज्यों में 50 से ज्यादा चुनावी सभाओं को संबोधित किया है. इन स्थानों पर स्थानीय प्रत्याशियों के प्रचार के लिए योगी की मांग सबसे ज्यादा थी. नाम न छापने की शर्त पर भाजपा नेता ने कहा, ‘हिन्दुत्व का चेहरा बन चुके 46 साल के आदित्यनाथ ने चुनाव वाले तीन राज्यों में 53 जनसभाएं की हैं. इनमें छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा 21 सभाएं शामिल हैं. जबकि यहां पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने 9 जनसभाओं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिर्फ 4 सभाओं को संबोधित किया है.’ इसी तरह मध्य प्रदेश में जहां भाजपा के शिवराज सिंह चौहान चौथी बार सत्ता पाने के लिए संघर्ष कर रहे है, उप्र के मुख्यमंत्री ने 15 जनसभाओं को संबोधित किया है. जबकि शाह ने 25 रैलियों को और प्रधानमंत्री ने 10 सभाओं को संबोधित किया है.

राहुल गांधी को पप्पू बोलने पर भड़के लोगों ने बीजेपी सांसद को दौड़ाया, माफी मांगने पर भी नहीं करने दी सभा

राजस्थान में भी पीएम से ज्यादा सभाएं करेंगे योगी
चुनाव वाले एक अन्य प्रदेश राजस्थान, जहां 7 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है, में मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए आदित्यनाथ 17 जनसभाओं को संबोधित करेंगे, जबकि प्रधानमंत्री की 10 जनसभाएं होनी हैं. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी का कहना है, ‘आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश निरंतर विकास की ओर अग्रसर है और दूसरे प्रदेशों के लिए विकास की मिसाल बन रहा है. प्रदेश में निवेश हो रहा है, कानून व्यवस्था की स्थिति में पहले की सरकारों की तुलना में तेजी से सुधार हो रहा है. राज्य सरकार ने फरवरी माह में चार लाख करोड़ रुपए के एमओयू (समझौता पत्र) पर हस्ताक्षर किए हैं. जुलाई तक 60 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाएं धरातल पर उतर आई हैं.’ उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों में हमारे मुख्यमंत्री की मांग यह दर्शाती है कि उनकी स्वीकार्यता उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों में भी बहुत है. बता दें कि छत्तीसगढ़ में दो चरणों में 12 और 20 नवंबर को चुनाव हो चुके हैं, जबकि मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को चुनाव हो चुके हैं. राजस्थान में सात दिसंबर को मतदान होगा.

(इनपुट – एजेंसी)

विधानसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com