नई दिल्ली: आप के वरिष्ठ नेता और संगरूर से सांसद भगवंत मान ने रविवार को कहा कि उन्होंने अपनी मां की सलाह पर शराब छोड़ दी है. मान के राजनीतिक विरोधी शराब की लत को लेकर अक्सर उनकी आलोचना करते रहे हैं. शराब छोड़ने के मान के संकल्प पर पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने उनकी सराहना की है. मान ने यहां एक रैली में कहा, ‘मेरे राजनीतिक विरोधी अक्सर मेरे खिलाफ आरोप लगाते रहते हैं और कहते हैं कि भगवंत मान शराब पीते हैं और दिन-रात नशे में रहते हैं. भाइयों, जब भी मैं सोशल मीडिया पर अपने पुराने वीडियो देखता था तो मुझे दुख होता था, जहां मुझे बदनाम किया जाता था.

उन्होंने कहा कि उन्होंने एक जनवरी से शराब छोड़ दी है और उन्हें उम्मीद है कि वह अब जीवनभर शराब से दूर रहेंगे. मान ने कहा, ‘मैं स्वीकार करता हूं कि मैं कभी कभी शराब पी लेता था. लेकिन मेरे राजनीतिक विरोधियों ने मुझे बदनाम किया. आज मेरी मां यहां हैं. उन्होंने मुझसे कहा था कि लोग टेलीविजन पर मुझे बदनाम करते हैं, उसके बाद उन्होंने मुझसे शराब छोड़ने को कहा. अब वे लोग मुझे बदनाम नहीं कर सकते. बाद में केजरीवाल ने अपने संबोधन में मान की प्रशंसा की और कहा कि शराब छोड़ने की उनकी प्रतिबद्धता ‘कोई छोटी बात नहीं है.’

केजरीवाल ने कहा, ‘मित्रों, भगवंत मान ने मेरा दिल जीत लिया. न सिर्फ मेरा, बल्कि उन्होंने पूरे पंजाब का दिल जीत लिया. नेता उनके जैसा होना चाहिए जो लोगों के लिए किसी भी प्रकार की कुर्बानी देने को तैयार हो. इतना बड़ा संकल्प लेना कोई छोटी बात नहीं है. केजरीवाल ने आरोप लगाया कि आज मादक पदार्थों के कारण पंजाब डूब रहा है. उन्होंने आरेाप लगाया कि पंजाब में मादक पदार्थों के लिए सुखबीर बादल जिम्मेदार हैं. बाद में संवाददाताओं से बातचीत में केजरीवाल ने कहा कि ‘आप’ पंजाब में लोकसभा की सभी 13 सीटों पर लड़ेगी. ‘हम पंजाब में सभी 13 सीटों पर लड़ेंगे. दिल्ली में या पंजाब में कांग्रेस के साथ कोई गठबंधन नहीं होगा.’