नई दिल्ली: अयोध्या राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद विवाद भारत का सबसे संवेदनशील और भारतीय न्यायपालिका में चलने वाला सबसे लंबा मामला है. आज यानी शनिवार को इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की ओर से बड़ा फैसला आने वाला है. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ कुछ ही देर में फैसला सुनाएगी. संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर भी शामिल हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले को देखते हुए देश में सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए. फैसले के चलते यूपी में शनिवार को सभी स्कूल-कॉलेजों को बंद किया है. वहीं,  दिल्ली में निजी स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया है.

राजस्थान में इंटरनेट सेवाएं स्थगित, जम्मू-कश्मीर में धारा 144 लागू

सुरक्षा के चलते राजस्थान सरकार ने मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी है. सरकार ने राजस्थान के भरतपुर में रविवार सुबह 6 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी है. वहीं जम्मू-कश्मीर में भी कोर्ट के फैसले को लेकर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. शुक्रवार आधी रात से ही पूरे प्रदेश में धारा 144 लागू कर दी गई है. इसके साथ ही आद प्रदेश में सभी स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने 16 अक्टूबर को सुरक्षित रख लिया था फैसला

सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने 40 दिनों की मैराथन सुनवाई के बाद 16 अक्टूबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. पुलिस द्वारा जारी एक परामर्श के मुताबिक पर्याप्त संख्या में बलों को तैनात किया जा रहा है और विभाग ने गृह मंत्रालय से अतिरिक्त केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की मांग भी की है. परामर्श में कहा गया है कि धर्म स्थलों पर सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये आवश्यक इंतजाम किए गए हैं. पुलिस ने बताया कि सोशल मीडिया की भी निगरानी की जाएगी. सोशल मीडिया पर मौजूद लोगों से विवेक के साथ पोस्ट करने और किसी असत्यापित सामग्री को साझा करने या फैलाने से बचने को कहा गया है.