चेन्नई: देश के विभिन्न हिस्सों में नेताओं की प्रतिमाओं के साथ हो रही तोड़फोड़ के बीच चेननई के एक रिहायशी इलाके में दलित नेता बीआर आंबेडकर की प्रतिमा विरूपित पायी गयी है. घटना को लेकर स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन किया. घटना पास के तिरुवोत्रियुर में एक रिहायशी इलाके में हुई जहां ग्रिल से ढंके ढांचे पर पेंट लगा दिया गया.

प्रतिमा को विरूपित करने की खबर जैसे ही लोगों को मिली, लोगों ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. पुलिस उपायुक्त जी शंकर साई की अगुवाई में एक टीम ने घटनास्थल का दौरा किया और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया. उपायुक्त ने बताया, ‘‘ स्थानीय लोगों की शिकायत के आधार पर हमने एक एफआईआर दर्ज की है और दोषियों का पता लगाने के लिए दो विशेष टीमें गठित की हैं. उन्होंने बताया कि कानून और व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने के लिए इलाके में और अधिक पुलिस पिकेट लगाये गए हैं.

देश के विभिन्न हिस्सों में आंबेडकर, तर्कवादी ईवी रामास्वामी ‘पेरियार’ और जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी सहित विभिन्न नेताओं की प्रतिमाओं के साथ तोड़फोड़ और छेड़छाड़ की घटना हुई है. त्रिपुरा में 25 साल की कम्युनिस्ट शासन की समाप्ति और विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद कम्युनिस्ट के प्रतीक माने जाने वाले ब्लादिमीर लेनिन की प्रतिमा गिराये जाने के बाद इन घटनाओं की शुरुआत हुई है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तोड़फोड़ की घटनाओं की कड़ी निंदा की है और कहा है कि दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.