अयोध्या: बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी (बीएमएसी) अगले सप्ताह बाबरी मस्जिद के अवशेष पर दावा करने के लिए उच्चतम न्यायालय का रुख करेगी. मुस्लिम पक्ष उस जगह से 1992 में गिराई गई बाबरी मस्जिद के अवशेष हटवाना चाहता है. Also Read - राम मंदिर निर्माण के लिए अब तक जमा हुए 2,100 करोड़ रुपये, जारी है धन जुटाने का अभियान

कमेटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा, ‘हमने अपने वकील राजीव धवन के साथ चर्चा की है और उनका भी विचार है कि हमें मस्जिद के अवशेष पर दावा करना चाहिए. लिहाजा हम अगले सप्ताह दिल्ली में बैठक कर प्रक्रिया को आगे बढ़ाएंगे.’ Also Read - Mulayam Singh Yadav की बहू Aparna Yadav ने राम मंदिर के लिए 11 लाख रुपए दान में दिए, फैमिली को लेकर दिया बड़ा बयान

वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार द्वारा राममंदिर के निर्माण के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन करने के बाद राम जन्मभूमि न्यास ने कहा है कि राममंदिर का निर्माण इस साल रामनवमी से शुरू हो सकता है. न्यास के वरिष्ठ सदस्य महंत कमल नयन दास ने कहा कि मंदिरर का निर्माण अप्रैल में रामनवमी से शुरू हो सकता है. Also Read - Ram Mandir Donation: Ram Temple निर्माण के लिए अब तक 1500 करोड़ रुपए से ज्‍यादा का दान मिला

सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनाए राम जन्मभूमि के फैसले का हुक्मनामा रखने वाले त्रिलोकीनाथ पांडे ने कहा कि राम जन्मभूमि न्यास के मुख्य ट्रस्टी महंत नृत्य गोपाल दास को शायद नवगठित ट्रस्ट में शामिल नहीं किया गया है, क्योंकि वे तथा विहिप उपाध्यक्ष चंपत राय बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के मामले में आरोपी हैं. उन्होंने हालांकि उम्मीद जताई कि उनके खिलाफ मुकदमा खत्म होने की स्थिति में वे ट्रस्ट में शामिल हो जाएंगे. यह मामला मार्च में खत्म हो सकता है.