लखनऊ: पूर्व उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, भाजपा नेता डॉ.एम.एम. जोशी और राम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास मंगलवार से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए लखनऊ की विशेष सीबीआई अदालत में पेश होंगे. सीबीआई की विशेष अदालत 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले की सुनवाई कर रही है.Also Read - निचली कोर्ट ने भगवान को ही 'तलब' कर लिया, HC ने जताई नाराजगी कहा- भगवान को पेशी पर नहीं बुलाया जा सकता

सीबीआई की विशेष अदालत ने शनिवार को इन आरोपियों द्वारा दिए गए पतों से वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग की व्यवस्था करने के लिए भारत सरकार की संस्था नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर (एनआईसी) के निदेशक को एक निर्देश भेजा, ताकि सीआरपीसी की धारा 313 के तहत उनके बयान दर्ज किए जा सकें. Also Read - मेरी मस्जिद शहीद हो गई, क्‍या सपा, बसपा, कांग्रेस ने कुछ कहा? उन्‍होंने आंखें मूंद लीं: असदुद्दीन ओवैसी

सभी आरोपियों को अभियोजन एजेंसी सीबीआई द्वारा जुटाए गए साक्ष्य के आधार पर कम से कम 1,000 सवालों के जवाब देने होंगे. सीबीआई के वकील ललित सिंह ने कहा, “विशेष अदालत ने आरोपियों को सुनवाई के दौरान दिए गए तथ्यों और सबूतों के बारे में सूचित किया और उन्हें अपना बयान देने का निर्देश दिया.” Also Read - बाबरी विध्वंस के बाद कैबिनेट मीटिंग में नरसिम्हा राव ने कहा था कि मुझे आपकी सहानुभूति नहीं चाहिए: सलमान खुर्शीद

सिंह ने कहा कि 13 अभियुक्त ों को अब तक पेश किया जा चुका है. आडवाणी 30 जून को, जोशी 1 जुलाई को, सिंह 2 जुलाई को, महंत नृत्य गोपाल दास 23 जून को पेश होंगे. वहीं 22 जून को आर. एन. श्रीवास्तव, 24 जून को जय भगवान दास, 25 जून को अमर नाथ गोयल, 26 जून को सुधीर कक्कड़ और 29 जून को आचार्य धर्मेंद्र देव पेश होंगे.