नई दिल्लीः कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए हरियाणा सरकार ने प्रदेश में होने वाली सभी रैलियों पर प्रतिबंध लगा दिया है. यह प्रतिबंध सभी राजनैतिक व गैर-राजनीतिक रैलियों पर लागू होगा. प्रदेश सरकार का कहना है कि इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या संगठनों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. हरियाणा सरकार कोरोना वायरस को राज्य में एक महामारी घोषित कर चुकी है. हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री अनिल विज ने कहा, “खेलों की भीड़, धार्मिक, राजनैतिक सम्मेलनों की भीड़ पर प्रतिबंध लगाया गया है. इनके अलावा सभी सामूहिक कार्यक्रम, जिनमें भीड़ एकत्रित होती है, पर प्रतिबंध लगाया गया है. हरियाणा में होने वाली सभी रैलियों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है.” Also Read - Coronavirus: ट्रेनों के 20,000 डिब्बों को अलग वार्ड में बदलने की तैयारी की जाए: रेलवे बोर्ड

विज ने कहा, “कोरोना वायरस को लेकर हर तीन दिन में हरियाणा सरकार समीक्षा करेगी.” प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हम स्कूल बंद करने के पक्ष में नहीं हैं. हालांकि हरियाणा सरकार दिल्ली से सटे चार जिलों में स्कूल बंद करने का आदेश जारी कर चुकी है. हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग ने राज्य में 100 स्थानों पर शिविर लगाकर मुफ्त दवाई वितरित करने का भी फैसला किया है. Also Read - कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय का बड़ा बयान, कहा- हम अभी लोकल ट्रांसमिशन के चरण में हैं

विज ने कहा कि प्रतिबंध के बावजूद जो कोई व्यक्ति अथवा संस्थान इस दौरान रैलियां या प्रतिबंधित गतिविधियों को आयोजित करेंगे, उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. हरियाणा सरकार राज्य के प्रत्येक जिले में ऐसे लोगों की पहचान कर रही है, जिन्होंने बीते 14 दिनों के अंदर विदेश यात्रा की है. सरकार ने ऐसे तमाम लोगों से स्वयं को अगले 14 दिनों तक घर के अंदर खुद ही अलग-थलग रखने की अपील की है. प्रत्येक जिले के जिला अधिकारी, एसडीएम, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, मुख्य सर्जन व सिविल सर्जन अधिकारियों को कोरोना वायरस की रोकथाम की जिम्मेदारी दी गई है. Also Read - Covid-19 Lockdown: 'पांड्या ब्रदर्स' ने घर को बनाया स्टेडियम! कर रहे हैं जमकर प्रैक्टिस, देखें VIDEO

हरियाणा के राज्यपाल ने अपने एक आदेश में कहा, “राज्य के प्रत्येक प्राइवेट और सरकारी अस्पतालों के पास संदिग्ध रोगियों की स्क्रीनिंग की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए, ताकि रोगियों को तुरंत उपचार मुहैया कराया जा सके.” हरियाणा के सभी अस्पतालों को अलर्ट जारी करते हुए कहा गया है कि अस्पताल में आने वाले संदिग्ध रोगियों का पूरा डाटा बेस तैयार किया जाए. ऐसे व्यक्तियों की पहचान की जाए, जो विदेश से आए किसी संदिग्ध रोगी के संपर्क में आए हैं अथवा कोरोना वायरस से प्रभावित देशों से लौटे किसी व्यक्ति के संपर्क में आए हैं. ऐसे सभी व्यक्तियों को स्वयं अपने घरों में बाकी लोगों से पृथक रहने के निर्देश दिए गए हैं.