मुंबई/पुणे/नागपुर. महाराष्ट्र के पुणे में दो दिन पहले हुई हिंसा और उसके बाद अलग अलग इलाकों में हुये विरोध प्रदर्शनों के बाद बुधवार को बुलाये गये बंद के दौरान सरकारी परिवहन की बसों पर पथराव की छिटपुट घटनाओं को छोड़ दें तो स्थिति सामान्य है. बंद की वजह से कई स्कूलों तथा बाजारों को आज बंद रखा गया है.

राज्य में दलित नेताओं के बंद के आह्वान के बीच मुंबई में एक बार फिर बसों को निशाना बनाया गया. दलित नेता भीमा-कोरेगांव लड़ाई की 200वीं सालगिरह के दौरान भड़की हिंसा का विरोध कर रहे हैं.

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) की आपदा प्रबंधन इकाई के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने कलानगर इलाके (बांद्रा), धारावी, कामराज नगर, संतोष नगर, डिंडोशी और हनुमान नगर में ‘बेस्ट’ की 13 बसों में तोड़फोड़ की. पूर्वी उपनगरों में कल प्रदर्शनों के कारण शहर में सड़क यातायात बाधित रहा.

मुंबई में घाटकोपर स्टेशन पर सुबह दलित कार्यकर्ताओं ने उपनगरीय रेल सेवा को बाधित किया. मध्य रेलवे की छत्रपति शाहुजी महाराज टर्मिनस की तरफ जाने वाली मुख्य लाइन पर रेल सेवा प्रभावित रहीं जिससे ऑफिस जाने वाले हजारों यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा. बंद को देखते हुये रेलवे ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये हैं. मुंबई में मशहूर डिब्बेवालों ने भी आज अपनी सेवाएं ना देने का फैसला किया है.

mumbai1

बीएमसी की आपदा प्रबंधन इकाई के वरिष्ठ अधिकारी महेश नार्वेकर ने पहले कहा था कि बेस्ट की बसें कांदिवली-अकुरली, डिन्डोशी-हनुमान नगर, चांदिवली-संघर्ष नगर, खैरानी रोड-साकीनाका, सहर कार्गो, मुलुंड चेक नाका और जीजामाता नगर समेत कुछ संवेदनशील मार्गों पर नहीं चलेंगी.

स्कूल बस मालिक संघ (एसबीओए) के अध्यक्ष अनिल गर्ग ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘सुरक्षा कारणों से राज्य में हमारी 99 फीसदी बसें सड़कें पर नहीं उतरेंगी. केवल एक या दो प्रतिशत बसें सड़कों पर हैं. हमने सुबह स्कूल बसें ना चलाने का फैसला लिया है और अगर परिस्थितियां ठीक रही तो हम दूसरी पाली में बसें चलाएंगे.’ उन्होंने कहा, ‘चूंकि कानून एवं व्यवस्था की स्थिति हमारे नियंत्रण में नहीं है, ऐसे में हम जोखिम नहीं उठा सकते.’ राज्य में एसबीओए की करीब 40,000 स्कूल बसें हैं.

mumbai2

गर्ग ने यह भी दावा कि मुंबई में आज प्रदर्शनकारियों ने कुछ स्कूल बसों को भी नुकसान पहुंचाया लेकिन पुलिस ने इस दावे की पुष्टि नहीं की है. बहरहाल, सरकार ने स्कूलों में छुट्टी घोषित नहीं की है लेकिन कई अभिभावकों ने खुद बच्चों को स्कूल नहीं भेजा. विक्रोली उपनगर निवासी विजय शुक्ला ने कहा, ‘मेरे दो बच्चे हैं, दोनों विक्रोली पूर्व में एक स्कूल में पढ़ते हैं. हालांकि स्कूल आज खुला है लेकिन मैंने उन्हें स्कूल नहीं भेजा.’ मुंबई के कार्यालयों में भी कर्मचारियों की हाजिरी कम रही. कर्मचारी हिंसा के डर से कार्यालय नहीं पहुंचे.

मुंबई डब्बावाला संघ के प्रवक्ता सुभाष तालेकर ने कहा, ‘हमारे कई ग्राहकों को कार्यालय पहुंचने में देरी हो सकती है तो हमने आज सेवाएं बंद रखने का फैसला किया है.’ मुंबई पुलिस ने मंगलवार को के हिंसक प्रदर्शनों के संबंध में 9 मामले दर्ज किए. शहर में मंगलवार से लेकर अब तक 100 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया गया है.

Tyre

इस बीच, नागपुर में आज स्कूलों और बाजारों के बंद रहने के साथ स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. शहर में कई बाजार और अधिकतर स्कूल बंद है जबकि कई संवेदनशील इलाकों में विरोध मार्च निकाले गए. संयुक्त पुलिस आयुक्त शिवाजी बोडके ने पीटीआई-भाषा से कहा कि शहर में पथराव की घटनाएं हुई. न्यू काम्प्टे इलाके में पथराव में एक व्यक्ति घायल हो गया.

उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने हिंगना इलाके में एक सड़क को अवरुद्ध कर दिया जबकि कुछ स्थानों पर सड़कों पर टायर फूंके गए. शहर भर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. राज्य रिजर्व पुलिस बल की दो टुकड़ियां और 250 होम गार्ड तैनात किए गए हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस ने प्रदर्शन मार्च करने वाले लोगों से सड़कों को अवरुद्ध ना करने की अपील की है और अपनी मांगों का ज्ञापन पत्र इलाके में पुलिस थानों को देने के लिए कहा है.

mumbai3

पुणे में सरकारी परिवहन की बसों पर पथराव की कुछ घटनाओं को छोड़कर बंद शांतिपूर्ण रूप से शुरू हुआ. शहर में बुधवार सुबह से बंद का मिला जुला असर देखने को मिला. कुछ दुकानों के शटर आधे खुले हुए हैं. अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (दक्षिण/उत्तर क्षेत्र) रविंद्र सेनगांवकर ने बताया कि सुखसागर नगर और सिंहगाड रोड पर पुणे महानगर परिवहन महामंडल लिमिटेड की बसों पर पथराव की दो घटनाएं हुई. पीएमपीएनएल के अनुसार, मंगलवार से लेकर अब तक उसकी 42 बसों पर पथराव किया गया.

पीएमपीएमआई के एक अधिकारी ने कहा, ‘बसें पुलिस के निर्देशों के तहत चल रही हैं.’ एहतियाती कदम के तौर पर कई निजी स्कूल बंद है हालांकि शैक्षिक संस्थानों के लिए छुट्टी की कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई. कृषि उत्पादन बाजार समिति (एपीएमसी) के अधिकारियों के मुताबिक, सब्जियों की आपूर्ति 20 फीसदी तक कम हो गई है.

mumbai4

एपीएमसी के एक पदाधिकारी ने कहा, ‘औसतन हर दिन राज्य के विभिन्न हिस्से से सब्जियों और कृषि उत्पादों के 1000 ट्रक आते हैं. बंद के मद्देनजर आपूर्ति आज 20 फीसदी तक कम हो गई.’ सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय (एसपीपीयू) के अनुसार, मास्टर ऑफ फार्मेसी की होने वाली परीक्षा स्थगित कर दी गई है. इस बीच, कुछ दलित संगठनों ने मिलिंद एकबोटे के आवास तक मार्च करने का फैसला किया है लेकिन सेनगांवकर ने कहा कि ऐसी कोई अनुमति नहीं दी जाएगी.

एकबोटे के साथ अन्य हिंदुत्व संगठन के नेता संभाजी भीडे उर्फ गुरुजी पर एक जनवरी को भीमा कोरेगांव में कथित तौर पर हिंसा की योजना बनाने के लिए एससी/एसटी कानून की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. सेनगांवकर ने कहा, ‘शहर में पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है हम लोगों से अपील करते हैं कि वे कानून को अपने हाथ में ना लें.’