1 मार्च से ATM से चार ट्रांजेक्शन के बाद 150 रुपए का शुल्क और सर्विस चार्ज लगेगा। बैंक ये अहम बदलाव कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए कर रहा है। एक मार्च को कई बैंकों के नियमों में बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं।

गौरतलब है कि 1 मार्च से 4 बार जमा-निकासी पर किसी तरह कोई चार्ज नही लगेगा। इसके बाद हर जमा-निकासी पर 150 रुपए सर्विस चार्ज देना होगा। इस नियम को लागू करने में एक्सिस बैंक, एचडीएफसी, आईसीसीआई जैसे बैंक शामिल हैं। इसके अतिरिक्त नोटबंदी से पहले ATM निकासी पर जो सीमा लगी थी, वही नियम फिर से लागू हो जाएंगे। माना जा रहा है कि सरकारी बैंकों में इस तरह के नियम जल्द लागू हो सकते हैं।

HDFC बैंक
इस बैंक में चार बार तक जमा और निकासी पर कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। इसके बाद हर ट्रांस्जेक्शन पर 150 रुपए और सर्विस चार्ज देना होगा। बैंक की होम ब्रांच से हर महीने एक एकाउंट से दो लाख तक निकाले जा सकते हैं । इससे ऊपर हर 1,000 रुपए पर पांच रुपए लगेंगे और यह शुल्क न्यूनतम 150 रुपए होगा। वहीं, दूसरी ब्रांच से प्रत्येक दिन 25 हजार रुपए तक की ट्रांजैक्शन फ्री होगी। वरिष्ठ नागरिकों और बच्चों के एकाउंट पर कोई चार्ज नहीं लगेगा। यह भी पढ़ें: HDFC बैंक का नया नियम, बैंक में रुपए जमा या निकालने पर देना होगा इतना चार्ज

 

एक्सिस बैंक
हर महीने एक लाख रुपए से ऊपर की राशि जमा करने पर या फिर पांचवीं निकासी से 150 रुपए या प्रति हजार रुपए पर 5 रुपए चार्ज लगेगा।

ICICI बैंक
आईसीआईसीआई बैंक के होम ब्रांच में चार बार से अधिक नकद लेनदेन पर न्यूनतम 150 रुपए चार्ज किए जाएंगे।

ATM पर फिर चार्ज शुरू
नोटबंदी के बाद से अब एटीएम से नकद निकासी की लिमिट रोज 10 हजार रुपए और प्रत्येक सप्ताह 50 हजार रुपए तक कर दी गई है। आरबीआई के पुराने नियम के अनुसार एटीएम से महीने में पांच बार से अधिक ट्रांजैक्शन करने पर 20 रुपए चार्ज लगता था। दिल्ली-NCR, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद और बेंगलुरु में दूसरे बैंक के एटीएस इस्तेमाल पर 3 ट्रांजैक्शन फ्री, जबकि दूसरे शहरों में पांच ट्रांजैक्शन फ्री थे। एक जनवरी से ये नियम फिर से लागू हो गए हैं।