प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500 और 1000 के नोट बंद किए जाने के एलान के बाद लोगों अपने पैसो को लेकर परेशान हैं। लेकिन इस खबर को पढ़नें के बाद आपको भी बड़ी ख़ुशी होगी। केंद्र सरकार ने लोगो के मन में उठने वाले सवाल पर विराम लगाते हुए कहा की 2.5 लाख रुपये से अधिक के नोट लौटाने पर टैक्स लागू किया जाएगा। लेकिन इससे अधिक राशि जमा करने वाले लोगो के पैसे अघोषित आय से मेल नही खाती है तो ऐसे में उनके उपर 200 पर्सेंट जुर्माना चुकाना होगा।

गौरतलब हो की इस मामले पर राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने कहा कि अब इस फैसले के बाद बैंक में बता दें की 10 नवंबर से 30 दिसंबर तक जमा होने वाली सभी राशि की पूरी जानकारी सरकार के पास होगी। लेकिन इन सभी के बीच जो लोग एक लाख से डेढ़ लाख तक की रकम बैंक में जमा करवाना चाहतें हैं और उनके मन में शंका है तो ऐसे लोग बिना डरे अपने पैसे को बैंक में जमा कराएं उन्हें इनकमटैक्स से डरने की कोई जरूरत नही है। यह भी पढ़ें: कब आएगा स्विस बैंक से 80 लाख करोड़ रुपये : कांग्रेस

बैंक शनिवार, रविवार को खुले रहेंगे

बता दें लोगो की समस्या को देखते हुए केंद्र सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किए जाने के बाद सप्ताहांत में सभी बैंक खुले रहेंगे। आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने एक ट्वीट में कहा,”जनता की सुविधा के लिए बैंक आगामी शनिवार और रविवार को खुले रहेंगे। प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी ने काले धन की समस्या से निपटने के लिए मंगलवार को घोषणा की कि 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट आठ नवंबर की आधी रात से अवैध हो जाएंगे। जिन लोगों के पास बड़ी नगद रकम है, उनके लिए अभी पचास दिन राहतभरे होंगे।

उपभोक्ता अपने बैंक खाते में 30 दिसंबर तक कितने भी पैसे जमा कर सकते हैं, इसके लिए लिमिट नहीं है। हालांकि 50 हजार से अधिक की राशि पर उसे पेनकार्ड व आधार कार्ड दिखाना होगा। उपभोक्ता का केवायसी पूरा होना चाहिए। उपभोक्ता का केवायसी नहीं है या पुराना हो गया है तो वह 50 हजार से ज्यादा जमा नहीं कर सकता।

बाजार में नए नोट 3-4 सप्ताहों में आ जाएंगे

लोगो को परेशानी न हो इस लिए केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि 500 और 1000 रुपये के आमान्य हो चुके नोटों की जगह नए नोट आगामी तीन-चार सप्ताहों में ले लेंगे। और अगले तीन-चार सप्ताहों में बदले गए सभी नए नोट बाजार में होंगे। हम एक करों का अनुपालन करने वाले समाज बन जाएंगे।”500 और 1000 मूल्य के सभी नोट मंगलवार की मध्यरात्रि से अमान्य हो गए हैं। जेटली ने कहा कि सरकार के साहसिक कदम से समानान्तर अर्थव्यवस्था का अंत हो जाएगा।