Beating Retreat Ceremony 2021: आज ‘बीटिंग रीट्रीट’ के साथ गणतंत्र दिवस समारोह का समापन हो गया. ‘बीटिंग रीट्रीट’ (What is Beating Retreat Ceremony) चार दिवसीय गणतंत्र दिवसीय गणतंत्र दिवस समारोहों के अंत का प्रतीक है.Also Read - Republic Day 2022: 10 प्वाइंट्स में समझें राजपथ की परेड में क्या कुछ था खास

इस साल शुक्रवार को आयोजित हुई ‘बीटिंग रिट्रीट’समारोह में पाकिस्तान के खिलाफ 1971 के युद्ध में भारत की जीत के 50 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एक विशेष नई प्रस्तुति‘स्वर्णिम विजय’ को शामिल किया था. इस वर्ष के समारोह में विशेष भारतीय धुन बजाई गई. Also Read - Happy Republic Day 2022 Wishes, Quotes, Whatsapp Messages, Status: अपने दोस्‍तों और प्रिय जनों को भेजें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं, बनाए दिन को और भी खास

‘बीटिंग द रिट्रीट’ भारत के गणतंत्र दिवस समारोह की समाप्ति का सूचक है. इस कार्यक्रम में थल सेना, वायु सेना और नौसेना के बैंड पारंपरिक धुन के साथ मार्च करते हैं. यह सेना की बैरक वापसी का प्रतीक है. इस बार पंद्रह सैन्य बैंड और रेजिमेंटल सेंटरों और बटालियनों के इतनी ही संख्या में ड्रम बैंड समारोह में शामिल हुए. Also Read - Republic Day Parade 2022: जानिए कहां और कैसे देखें गणतंत्र दिवस परेड की LIVE स्ट्रीमिंग

इसके अलावा नौसेना, वायुसेना और सशस्त्र पुलिस बलों का एक-एक बैंड भी इसमें शामिल हुआ. लगभग 26 से अधिक संगीतमय कार्यक्रम ऐतिहासिक विजय चौक पर दर्शकों को रोमांचित करते दिखे. ‘सारे जहां से अच्छा’ की धुन के साथ समारोह का समापन हुआ.

इस समारोह को पहली बार आयोजित करने के लिए 1950 में उस समय के मेजर जीए रोबर्ट्स को कहा गया था. उन्हें ऐसा समारोह आयोजित करने के लिए कहा गया जिसमें भारतीय सेना के तहत आने वाले अलग-अलग बैंड की झांकी भी दिख लोगों के सामने पेश की जाए.