नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी के विजय चौक पर सशस्त्र बलों और केंद्रीय तथा राज्य पुलिस के बैंडों की शानदार 26 प्रस्तुतियों के साथ बुधवार को गणतंत्र दिवस समारोह संपन्न हो गया. इस दौरान कदमताल के साथ संगीत और भावपूर्ण शास्त्रीय प्रस्तुतियों ने हर किसी को मंत्रमुग्ध कर दिया. ‘अभियान’ से लेकर ‘नृत्य सरिता’ और ‘गंगा जमुना’ जैसी भारतीय धुनों ने बीटिंग रिट्रीट समारोह में चार चांद लगा दिए. Also Read - Twitter Blocks 500 Accounts: चेतावनी के बाद ट्विटर की बड़ी कार्रवाई, बंद किए 500 अकाउंट्स, विवादित # हटाया

  Also Read - 26 जनवरी को लाल किले पर नहीं हुआ तिरंगे का अपमान, वीडियो में नहीं दिखी ऐसी कोई बात: शिवसेना

समारोह की शुरुआत वाहनों के काफिले के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आयोजन स्थल पर पहुंचने के साथ हुई. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे, वायुसेना अध्यक्ष एअर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया और नौसेना प्रमुख एडमिरल करमवीर सिंह भी इस अवसर पर मौजूद थे. थलसेना, वायुसेना, नौसेना, राज्य पुलिस और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के बैंडों ने दो दर्जन से अधिक धुनें बजाईं. इनमें ‘विजय भारत’ सहित 25 धुनें भारतीय संगीतकारों ने तैयार की थीं. ‘सारे जहां से अच्छा’ की प्रस्तुति ने भी सबका मन मोह लिया.

 


हर वर्ष 29 जनवरी को आयोजित होता है बीटिंग रिट्रीट
जैसे ही रिट्रीट का बिगुल बजा, रायसीना हिल परिसर भव्य रंगों के प्रकाश से जगमगा उठा. इसके लिए पारंपरिक बल्बों की जगह एलईडी का इस्तेमाल किया गया. बीटिंग रिट्रीट हर वर्ष 29 जनवरी को आयोजित होता है. यह परंपरा सदियों पुरानी है जब सूर्यास्त के समय सैनिक युद्ध रोक देते थे और अपने शिविरों में लौट जाते थे.