आइजोल. मिजोरम में इसी महीने के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी को तगड़ा झटका लगा है. मिजोरम विधानसभा के अध्यक्ष हिफेई ने सोमवार को अपने पद, विधानसभा और कांग्रेस पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया तथा भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए. हिफेई ने यहां पत्रकारों से कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मिजोरम में स्वायत्तशासी जिला परिषदों को अधिक स्वायत्तता प्रदान करने के लिए संविधान की छठी अनुसूची में संशोधन करने का वायदा किया है. बता दें कि मिजोरम में 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है.

मिजोरम में विधानसभा चुनाव से पहले अब तक सत्तारूढ़ दल कांग्रेस के कई विधायक इस्तीफा दे चुके हैं. देश के पूर्वोत्तर इलाके में कांग्रेस शासित राज्यों में अब सिर्फ एक ही राज्य मिजोरम बचा है, यहां भी कांग्रेस के लिए चुनाव से पूर्व मिल रहे संकेत नकारात्मक हैं. बता दें कि सितंबर महीने से लेकर अब तक विधानसभा से इस्तीफा देने वाले हिफेई कांग्रेस के पांचवें विधायक हैं. कांग्रेस से सात बार विधायक रहे हिफेई ने सोमवार सुबह अपना इस्तीफा विधानसभा उपाध्यक्ष आर. लालरीनवमा को सौंपा जिन्होंने उसे स्वीकार कर लिया. हिफेई वहीं से कांग्रेस भवन गए और वहां पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया.

हिफेई ने कहा कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उन्हें यह भी आश्वासन दिया कि इन परिषदों को सीधे कोष देने का प्रावधान किया जाएगा न कि राज्य सरकार के जरिए इन्हें धन मुहैया कराया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘भाजपा और उसके गठबंधन साझेदार मिजोरम में सरकार बनाएंगे.’ हिफेई ने कहा कि चुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस की शिकस्त होगी. उन्होंने उम्मीद जताई कि 40 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा कम से कम पांच सीटें अपनी झोली में डालेगी. हिफेई ने कहा कि मुख्यमंत्री और प्रदेश मिजोरम कांग्रेस समिति के अध्यक्ष लाल थनहवला की कृपादृष्टि उनसे हट गई और सियाह जिले में स्थित उनकी गृह सीट पलक से चुनाव लड़ने के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के एलान के बावजूद उन्हें अनिश्चितता में रखा गया.

उन्होंने कहा कि वह भाजपा के टिकट पर पलक विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे. हिफेई ने कहा कि भगवा पार्टी के लिए प्रचार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 नवंबर को राज्य का दौरा करेंगे. गुवाहाटी में पूर्वोत्तर जनतांत्रिक गठबंधन (एनईडीए) के समन्वयक और भाजपा नेता हिमंत बिस्वर सरमा कहा था, ‘वह बहुत वरिष्ठ नेता हैं. उनके भाजपा में शामिल होने से पार्टी मजबूत होगी.’ अनुभवी नेता हिफेई 2013 में पलक विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते थे. वह 1972 से 1989 तक तुईपांग से छह बार चुनाव जीते हैं.