कोलकाता: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के पश्चिम बंगाल आने से पहले राज्य कांग्रेस के नेता दो धड़े में बंट गये हैं. पार्टी का एक धड़ा तृणमूल के साथ गठबंधन को इच्छुक है तो दूसरा माकपा के साथ जाने को इच्छुक है. राहुल गांधी कल पश्चिम बंगाल का दौरा करने वाले हैं. Also Read - राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, बोले- जब जब देश भावुक हुआ, फाइलें गायब हुईं

Also Read - पंजाब में कांग्रेस का कलह: MP प्रताप सिंह बाजवा के बागी बोल, अमरिंदर सरकार वापस लेगी सिक्‍युरिटी

वर्ष 2019 के होने वाले लोकसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ उनकी लड़ाई में गठबंधन सहयोगी के चयन को लेकर प्रदेश इकाई में मतभेद जारी है. प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया कि संगठनात्मक मुद्दों पर चर्चा के लिये आधिकारिक रूप से छह जुलाई को बैठक बुलायी गयी है. लेकिन तृणमूल कांग्रेस द्वारा कांग्रेस विधायकों को अपने पाले में करना और तृणमूल या माकपा के साथ गठबंधन का मुद्दा भी इस दौरान उठने की संभावना है. Also Read - कांग्रेस को फिर लगा बड़ा झटका, पूर्व मंत्री सहित दो बड़े नेताओं ने छोड़ी पार्टी, भाजपा में हुए शामिल

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस को झटका, पार्टी के राष्ट्रीय सचिव मोइनुल हक ने TMC में जाने का किया ऐलान

केंद्रीय नेतृत्व को भेजी रिपोर्ट

पश्चिम बंगाल कांग्रेस कमेटी (डब्ल्यूबीपीसीसी) की ओर से प्रदेश महासचिव ओम प्रकाश मिश्रा द्वारा तैयार और केंद्रीय नेतृत्व को भेजी गयी रिपोर्ट में संसदीय चुनाव के लिये माकपा से हाथ मिलाने की सिफारिश की गयी है. हालांकि पार्टी सांसदों एवं विधायकों के एक धड़े का मानना है कि वर्ष 2019 में अधिक से अधिक सीटें जीतने के लिये तृणमूल के साथ हाथ मिलाना बेहतर तरीका होगा.