नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने सोमवार को कहा कि भारत के एक गौरवान्वित नागरिक के तौर पर उन्हें पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी शिविर पर की गई वायुसेना की करवाई पर पूरा विश्वास है, लेकिन वहां 300-350 लोगों के मारे जाने की यह संख्या किसने बताई है. उन्होंने यह भी कहा कि पूरी दुनिया वायुसेना के इस अभियान पर यकीन करे, इस बारे में सरकार को प्रयास करने चाहिए. चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, वायुसेना की कार्रवाई के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सबसे पहले वायुसेना को सलाम किया. मोदी जी यह क्यों भूल जाते हैं?’

जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने का पाकिस्तान नहीं करेगा विरोध?

उन्होंने कहा, वायुसेना के वायस एयर मार्शल ने कार्रवाई में मारे गए लोगों की संख्या के बारे में टिप्पणी करने से इनकार किया. विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया कि कोई आम व्यक्ति और सैनिक हताहत नहीं हुआ. फिर किसने मारे गए लोगों की संख्या 300-350 बताई? चिदंबरम ने यह भी कहा, एक गौरवान्वित नागरिक के तौर पर मुझे अपनी सरकार में भरोसा है. लेकिन अगर हम चाहते हैं कि दुनिया इस पर विश्वास करे तो सरकार को विपक्ष पर निशाना साधने के बजाय इस दिशा में प्रयास करने चाहिए.

एयर स्ट्राइक के बाद फिर चली समझौता एक्सप्रेस, सिर्फ 12 लोगों ने की यात्रा

दूसरी ओर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को दावा किया कि 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में इंडियन एयरफोर्स की ओर से की गई एयर स्ट्राइक में 250 आतंकवादी मारे गए. एक कार्यक्रम के दौरान अमित शाह ने कहा, उरी हमले के बाद आर्मी ने सर्जिकल स्टाइक की. पुलवामा हमले के बाद लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि हाई लेवल अलर्ट के कारण सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हो सकता लेकिन जवानों की शहादत के 13वें दिन नरेंद्र मोदी सरकार ने एयर स्ट्राइक कर दिया. बिना किसी नुकसान के 250 आतंकवादी मारे गए.

पीएम मोदी आज से दो दिवसीय गुजरात दौरे पर, मेट्रो का उद्घाटन करेंगे, मंदिर की नींव रखेंगे

लक्ष्य जीतो कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा, जब (विंग कमांडर) अभिनंदन वर्थमान पाकिस्तान में पकड़े गए तो विपक्ष ने फिर से शोर मचाना शुरू कर दिया, लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार का प्रभाव ऐसा था कि दुनिया में पहली बार इतने कम समय में एक पीओडब्ल्यू जारी किया गया … अभिनंदन को 48 घंटों के भीतर रिहा कर दिया गया. शाह ने कहा कि भारत अपने सशस्त्र बलों पर हमलों का बदला लेने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका और इजरायल के बाद दुनिया का तीसरा देश बन गया है.