नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) द्वारा कांग्रेस छोड़े जाने के बाद से मध्य प्रदेश की सियासी उथल-पुथल का केंद्र बेंगलुरु बना हुआ है. बेंगलुरु के एक रेसॉर्ट में कांग्रेस के बागी विधायकों मंत्रियों को रखा गया है. दावा है कि बीजेपी इन्हें यहां लेकर गई है. इन विधायकों और मंत्रियों ने इस्तीफा भी दे दिया है. वहीं, कांग्रेस का कहना है कि उनके विधायकों और मंत्रियों को यहां जबरन रखा गया है. Also Read - कांग्रेस ने सांसदों के वेतन में कटौती का स्वागत किया, सांसद निधि बहाल करने की मांग

बेंगलुरु में इन्हीं विधायकों और मंत्रियों से मिलने पहुंचे मध्य प्रदेश की कमलनाथ की कांग्रेस (Congress) सरकार के मंत्री जीतू पटवारी (Jitu Patwari) से बीजेपी नेताओं और पुलिस से भिड़ंत हो गई. इसके वीडियो भी सामने आ गए हैं, जिसमें जीतू पटवारी से कुछ लोग और पुलिस की धक्का-मुक्की होती दिख रही है. जीतू पटवारी के साथ मंत्री लाखन सिंह भी साथ थे. इस पूरे प्रकरण के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने कहा कि जीतू पटवारी और लाखन सिंह के साथ मारपीट की गई है. हमें खबर मिली है कि दोनों को अरेस्ट भी कर लिया गया है. Also Read - दीया जलाने के दौरान बीजेपी महिला जिला अध्यक्ष ने की थी फायरिंग, FIR दर्ज, अब मांग रहीं माफी

मध्य प्रदेश में कांग्रेस नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि हमारे मंत्रियों और विधायकों को रेसॉर्ट में बंधक बना कर रखा गया है. अगर पुलिस ने इन्हें छुड़ाने के लिए कोई एक्शन नहीं लिया तो हम कोर्ट का रुख करेंगे.