नई दिल्ली: क्या कभी आपने 95 हजार का पिज्जा खाया है. अगर आपका जवाब नहीं है तो हां आप सही हैं क्योंकि 95 हजार रुपये का पिज्जा होता ही नहीं है. लेकिन बेंगलुरु के एक शख्स को पिज्जा 95 हजार का पड़ा और वो भी धोखे की वजह से. बेंगलुरु के रहने वाले एन.वी. शेख के साथ कुछ ऐसा ही हुआ है. पिज्जा ऑनलाइन कस्टमर केयर अधिकारी बनकर जालसाजों ने शेख को 95 हजार का चूना लगा दिया.

बता दें कि बेंगलुरू के कोरमंगला के रहने वाले एन.वी. शेख ने 1 दिसंबर दोपहर को पिज्जा ऑर्डर करने के लिए अपने स्मार्टफोन पर फूड डिलीवरी ऐप का इस्तेमाल किया। ऑर्डर सबमिट होने के एक घंटे बाद भी पिज्जा को डिलीवर नहीं किया गया. ऑर्डर नहीं मिलने पर शेख कस्टमर केयर को फोन किया. इस फोन के जवाब में कस्टमेयर की तरफ से कहा गया कि आपके ऑर्डर को स्वीकार नहीं किया गया है पैसा आपको अकाउंट में वापस कर दिया जाएगा.

फिल्मी जगत ने हैदराबाद रेप आरोपियों के एनकाउंटर पर ट्वीट कर दिया जवाब, जानें किसने क्या कहा

फोन पर मौजूद व्यक्ति ने कहा कि आपको हमारी तरफ से आपको एक संदेश भेजा जाएगा. संदेश में एक लिंक होगा. लिंक पर क्लिक करके आप आगे की कार्रवाई कर सकते हैं. कार्रवाई पूरी होने के बाद पैसा आपके अकाउंट में वापस भेज दिया जाएगा. इसके बाद कस्टमर केयर की तरफ से दिए गए निर्देशों को शेख ने फॉलो किया. इस दौरान जालसाजों ने शेख के बैंक डिटेल्स की जानकारी जुटा ली और शेख को 95 हजार का चूना लगा दिया.

एन.वी. शेख को जब इस बात की भनक लगी कि उसे नुकसान हो गया है तो वह फौरन नजदीकी पुलिस स्टेशन पहुंचा. यहां उसने पुलिस को पूरी बात बताई. मडवाला पुलिस ने कहा कि शेख के बैंक खातों की जानकारी दिए गए लिंक के जरिए जालसाजों ने जुटाई और उन्हें ठग लिया. हमने मामले को दर्ज कर लिया है और आरोपियों की तलाश कर रहे हैं. पीड़ित ने बताया कि उसकी मां को कैंसर और वह अपनी मां के इलाज के लिए पैसे बचा रहा था.

स्मृति ईरानी ने 2 सांसदों पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप, माफी के लिए 1 घंटे का दिया वक्त

इस मामले पर फूड डिलीवरी कंपनी के प्रवक्त ने कहा कि उनके पास ग्राहकों के लिए कालिंग सेवा की सुविधा उपलब्ध नहीं है. हमारे यहां केवल चैट और ईमेल के जरिए ग्राहकों की बात को सुना और समझा जाता है. प्रवक्ता ने का कि हम ग्राहकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का लगातार प्रयास करते हैं. साथ ही ग्राहकों से सतर्क रहने और किसी के साथ व्यक्तिगत या बैक खातों का विविरण साझा नहीं करने का आग्रह करते हैं.