नई दिल्ली: बेंगलुरु मेट्रो में पैंट की जिप खोलकर महिला यात्री के सामने अपना प्राइवेट पार्ट दिखाने वाले 27 साल के युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने बताया कि महिला यात्री ने अपने साथी यात्रियों को इस बारे में सूचना दी उन्होंने आरोपी प्रवीण बी हेगड़े को पकड़ लिया और पुलिस के हवाले करने से पहले उसकी जमकर पिटाई की.

पुलिस ने बताया कि युवक साउथ बेंगलुरु उत्तर कन्नड़ जिले के सिरसी का रहने वाला है. उसका नाम प्रवीण बी हेगड़े है और वह एक प्राइवेट फर्म में ऑडिटर है. 30 वर्षीय युवती की तरफ से युवक के खिलाफ तहरीर दी गई है. युवती का आरोप है कि युवक उसके पीछे खड़ा था और उससे जबरदस्ती छूने की कोशिश कर रहा था.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार युवती ने उसे दूर खड़े होने के लिए कहा. युवती ने बताया कि मैंने उसे दूर रहने के लिए कहा लेकिन कुछ देर बाद मैंने देखा कि वह अपने पैंट की जिप खोल कर अपना प्राइवेट पार्ट दिखाने लगा.युवती बेल्लनडूर की एक प्राइवेट कंपनी में काम करती है. उसने शाम लगभग 5 बजकर 15 मिनट पर राजाजीनगर स्टेशन से मेट्रो ली थी. उसे बानाशंकरी जाना था. लगभग 15 मिनट के बाद ट्रेन मैजेस्टिक स्टेशन पहुंचने वाली थी.

क्या कहना है पुलिस का
पुलिस ने बताया कि एक युवक उसके ठीक पीछे खड़ा था. कुछ देर बाद युवक उससे चिपकने लगा. युवती को कुछ अजीब लगा. उसने युवक को चेतावनी देकर पीछे हटने को कहा. युवक ने कहा की मेट्रो में भीड़ है कहीं और जगह नहीं है इसलिए वह वहीं खड़ा होगा.थोड़ी देर बाद युवती को कुछ गड़बड़ लगी. वह पीछे मुड़ी तो देखा कि युवक के पैंट की जिप खुली थी और उसका प्राइवेट पार्ट बाहर निकला था. युवती ने शोर मचाया तो यात्रियों ने युवक को पकड़कर पीटा. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

पहली घटना नहीं
यह इस तरह की पहली घटना नहीं है. कुछ दिन पहले एक डीटीसी बस में भी एक व्यक्ति ने महिला के सामने मास्टरबेट की थी. उसकी ये हरकत कैमरे में कैद हो गई थी. 8 अप्रैल को भी संदीप चौहान नाम के शख्स ने अपनी ही बिल्डिंग में रहने वाली दो महिलाओं के सामने यह अश्लील हरकत की. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया था.

कैब में ड्राइवर ने की थी ऐसी  ही हरकत
वहीं  दिल्ली में एक कैब ड्राइवर को महिला के सामने गंदी हरकत करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. महिला ने आरोप लगाया था कि जब वह कैब में बैठी थीं तो गाड़ी चलाते समय ड्राइवर ने मास्टरबेट किया. मामला 15 अप्रैल का है. जांच में यह भी पता चला कि कैब ड्राइवर का लाइसेंस फेक था. आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद ज्यूडिशल कस्टडी में भेज दिया गया था.