मुंबई. मुंबई में बेस्ट बस हड़ताल जारी रहने के आसार 7वें दिन सोमवार को भी है. महाराष्ट्र के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में निगम संचालित परिवहन के प्रबंधन और हड़तालरत कर्मचारियों की यूनियनों के बीच हुई बैठक बेनतीजा रहने के कारण गतिरोध बरकरार है. बंबई उच्च न्यायालय ने यूनियन के नेताओं को हड़ताल खत्म करने के मकसद से समाधान तलाशने के लिये राज्य सरकार समिति के साथ बात करने का निर्देश दिया था, जिसके बाद यह बैठक हुई. वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा उनकी पार्टी बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के बजट के साथ परिवहन के बजट को एक में मिलाने के अपने वायदे को पूरा करेगी।

दूसरी तरफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सड़क पर उतर प्रदर्शन की धमकी दी है. उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार, बीएमसी प्रशासन और सत्ताधारी पार्टी अगर मांगों का नहीं मानती हैं तो वह सड़क पर उतर प्रदर्शन करेंगे. उन्होंने कहा है कि वह BEST कर्मचारियों को समर्थन करते रहेंगे.

3200 बसे नहीं चल रही हैं
बता दें कि बृहन्मुंबई विद्युत आपूर्ति एवं यातायात उपक्रम (बेस्ट) के 32,000 कर्मचारी मंगलवार से हड़ताल पर हैं और इसकी 3200 बसें महानगर की सड़कों पर नहीं चल रही हैं, जिसके कारण कई लाख यात्रियों को भारी असुविधा हो रही है.
हड़तालरत ‘बेस्ट वर्कर्स यूनियन’ के अध्यक्ष शशांक राव ने बताया कि समिति ने उनकी मांगें सुनीं लेकिन कोई जवाब नहीं दिया. राव ने पत्रकारों को बताया कि हड़ताल शांतिपूर्ण तरीके से जारी रहेगी. उन्होंने कहा, हमने उनके सामने अपना पक्ष रखा और उन्हें साफ-साफ कहा कि जब तक हमारी मांगें स्वीकार नहीं की जातीं तब तक हम हड़ताल वापस नहीं लेंगे.

शिवसेना ने किया था वादा
मंगलवार से हड़ताल पर बैठे बेस्ट के कर्मचारियों की मांगों में से एक यह है कि बीएमसी और घाटे में चल रहे बेस्ट के बजट को एक में मिलाया जाए. शिवसेना ने 2017 के स्थानीय निकाय के चुनाव प्रचार के दौरान बजटों को मिलाने का वादा किया था. ठाकरे ने कहा, बेस्ट की वित्तीय स्थिति खराब हो गई है. मैंने बजटों को मिलाने का वादा किया था और वह पूरा होगा. बातचीत से ही कोई हल निकाला जा सकता है. भले ही बेस्ट की हड़ताल का मुद्दा अदालत में हो, लेकिन मैं ज़रूरत पड़ने पर चर्चा का हिस्सा बनने के लिए तैयार हूं.