नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी की महिलाएं भाई दूज के अवसर पर आज दिल्ली यातायात निगम डीटीसी की बसों से मुफ्त में यात्रा कर सकेंगी. महिलाएं अपने भाइयों की सलामती के लिए व्रत रखेंगी. डीटीसी ने एक बयान में बताया कि डीटीसी की एसी और नॉन एसी बसों में दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र की यात्रा का किराया महिलाओं से नहीं लिया जाएगा.

इस दिन यात्रियों की भीड़ को देखते हुए डीटीसी ने पर्याप्त इंतजाम किया है. दिल्ली सरकार की पहल के अनुसार डीटीसी ने भाई दूज के मौके पर नौ नवंबर को महिला यात्रियों को दिल्ली और एनसीआर में मुफ्त यात्रा देने का फैसला किया है. डीटीसी हर साल भैया दूज के मौके पर महिलाओं को मुफ्त में यात्रा कराता है.

ऐसी मान्यता है कि इस दिन यमराज ने अपनी बहन को वचन दिया था कि जो भी भाई इस दिन अपनी बहन से तिलक लगवाएगा और उसके घर भोजन करेगा, उसे मेरा अर्थात यमराज का भय नहीं होगा. यही वजह है कि भाई दूज के इस त्योहार को यम द्वितीया भी कहा जाता है.अगर बहन की शादी नहीं हुई है तो आज के दिन भाई को अपनी बहन के हाथ का बना भोजन खाना चाहिए.

अगर अपनी कोई सगी बहन नहीं है तो चाचा, मामा आदि की पुत्री या पिता की बहन के घर जाकर भी भोजन कर सकते हैं. हर साल यह कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष के द्वितीया तिथि को मनाया जाता है. इस दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाती हैं और उनकी लंबी आयु की कामना करती हैं. भाई दूज महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है.