Bharat Bandh in Delhi: कृषि कानून के खिलाफ किसानों द्वारा बुलाए गए भारत बंद का असर दिखने लगा है. सुबह 11 बजे गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने गाजियाबाद मेरठ एक्सप्रेस वे धरना दिया, जो अब खत्म हो चुका है. एक बार फिर से हाई वे पर गाडियों की आवाजाही होना शुरू हो गई है. दरअसल सुबह 11 बजे से 3 बजे तक किसानों ने सड़कों को जाम कर दिया था, जिसके कारण हाई वे पर वाहन सवारों को वापस लौटना पड़ा. Also Read - Bharat Bandh: देश में 8 करोड़ व्यापारियों का भारत बंद, जानें क्या खुलेगा और किसपर पडे़गा असर

हालांकि इस दौरान एम्बुलेंस को किसानों ने रोकने की कोशिश नहीं की. Also Read - Bharat Bandh Today News Updates: किसान यूनियनों, Traders का GST, Fuel Price Hike, E-Way Bill के विरोध में आज बंद

मंगलवार सुबह से ही देश के अलग-अलग इलाकों में कई संगठन सड़कों पर उतरे हैं और प्रदर्शन कर रहे हैं. गाजीपुर बॉर्डर पर उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड के विभिन्न हिस्सों से आए किसान मौजूद हैं, जो कि कृषि कानून के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं. Also Read - 26 February 2021 Bharat Bandh: कल है व्यापारियों का भारत बंद, लेकिन ये सेवाएं नहीं होंगी प्रभावित

किसानों के भारत बंद को देखते हुए, बॉर्डर पर भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी रही.

इससे पहले किसान संघों द्वारा विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर मंगलवार को किए गए ‘भारत बंद’ का पूर्वोत्तर राज्यों में आंशिक असर देखने को मिला. पूर्वोत्तर क्षेत्र में बैंक कर्मचारियों के एक वर्ग का बंद में हिस्सा लेने के कारण यहां बैंकिंग ऑपरेशन आंशिक रूप से प्रभावित हुआ. अधिकारियों के अनुसार, अधिकांश पूर्वोत्तर राज्यों में ट्रेन और उड़ान सेवाओं पर राष्ट्रव्यापी बंद का कोई असर नहीं हुआ.

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) के एक अधिकारी ने कहा कि गुवाहाटी में ट्रेन सेवाएं उनके अधिकार क्षेत्र में अप्रभावित रहीं, हालांकि कुछ स्थानों पर लोगों ने पथराव करके यात्री ट्रेनों को रोकना चाहा, लेकिन सुरक्षा बलों ने उन्हें खदेड़ दिया. पूर्वोत्तर के 8 में से 6 राज्यों में एनएफआर पूरे या आंशिक तौर पर संचालित होता है.

(इनपुट आईएएनएस)