Corana Virus Covaxin: भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के सहयोग से भारत बायोटेक लिमिटेड द्वारा बनाया जा रहा कोरोना वायरस ‘Covaxin’ के तीसरे चरण का ट्रायल उत्तरप्रदेश के दो जिलों लखनऊ और गोरखपुर में किया जाएगा. COVAXIN के तीसरे चरण का ट्रायल जल्द ही शुरू हो रहा है. इससे अब कोरोना वैक्सीन जल्द ही उपलब्ध हो सकेगी.Also Read - Dinesh Sharma's Profile: अटल बिहारी वाजपेयी ने मांगे थे जिनके लिए वोट, जानें उन दिनेश शर्मा के बारे में सब कुछ

उत्तरप्रदेश के मुख्य अपर सचिव (चिकित्सा और स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड के निदेशक वी कृष्ण मोहन को एक पत्र लिखा है. इस तरह से पत्र के माध्यम से उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य के दो शहरों में COVID-19 वैक्सीन का परीक्षण करने की अनुमति दी है. Also Read - पश्चिम बंगाल में कोरोना प्रतिबंधों में छूट, फिल्मों की शूटिंग, जिम खोलने की अनुमति, ये होंगी शर्तें

सचिव चिकित्सा और स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने राज्य सरकार की तरफ से अपने पत्र में लिखा है कि  “उत्तर प्रदेश में COVAXIN के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए र्राज्य सरकार ने अनुमति देने का निर्णय लिया है. वैक्सीन का प्रभाव और इसके ट्रायल के बाद सुरक्षा के नैदानिक परीक्षण की अनुमति भारत बायोटेक को दी जाती है कि वो लखनऊ और गोरखपुर में इसके तीसरे चरण का ट्रायल करे. Also Read - Burans Phool ke Fayde: बुरांश का फूल Corona रोकने में सक्षम, IIT के शोधकर्ताओं का बड़ा दावा

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि , ” कोरोना वैक्सीन के ट्रायल की अनुमति मिलने के बाद कंपनी को सुरक्षा और अन्य प्रोटोकॉल के लिए भारत सरकार के नैदानिक परीक्षणों के संचालन के लिए दिए गए गाइडलाइंस का पालन करना होगा.

कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए लखनऊ के संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के निदेशक डॉक्टर आर के धीमान को नोडल व्यक्ति बनाया गया है, जबकि गोरखपुर के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर गणेश कुमार को नोडल अधिकारी बनाया गया है.