नई दिल्ली: ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने सोमवार को भारत बायोटेक की स्वदेशी तौर पर विकसित कोरोनो वायरस वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों पर परीक्षण करने की अनुमति दे दी.Also Read - Delhi Weekend Curfew: नियम तोड़ते हुए पकड़े गए लोग, 1320 के खिलाफ मुकदमा दर्ज

बता दें कि भारत में जानलेवा कोरोनावायरस का पहला मामला सामने आने के 11 महीने बाद ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) वी.जी. सोमानी ने रविवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के ‘कोविशील्ड’ वैक्सीन और भारत बायोटेक के ‘कोवैक्सीन’ को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है. इससे इन वैक्सीन को करोड़ो लोगों को दिए जाने का रास्ता खुल गया है. Also Read - Mumbai Corona Update: मुंबई में 11 दिन बाद घटे कोरोना के मामले, 24 घंटे में 7895 नए केस मिले, 11 मौतें हुईं

डीसीजीआई ने केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की एक कोविड-19 विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) द्वारा सिफारिशों के आधार पर मंजूरी दी. Also Read - Corona Virus in Delhi: दिल्ली में कोरोना के 18,286 नए केस मिले, 28 संक्रमितों की मौत

DCGI ने क्लिनिकल ट्रायल मोड में आपातकालीन हालत में भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के सीमित इस्तेमाल की मंजूरी दी है और इसमें 12 वर्ष या इससे ऊपर के बच्चे भी शामिल हैं. गौरतलब है कि भारत बायोटेक ने फेज 2 में 12-18 साल के बच्चों पर भी वैक्सीन का ट्रायल किया था. इसके आधार पर उसे मंजूरी मिली है.