नई दिल्ली: देश में फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ बुधवार को इतिहास रचते हुए भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट बनीं, जिन्होंने लड़ाकू विमान में युद्धक मिशन पर जाने की योग्‍यता हासिल कर ली है. वायुसेना अधिकारियों ने कहा कि कंठ ने दिन के समय मिग-21 बाइसन विमान से युद्धक अभियान को अंजाम देने के लिए अभियान का पाठ्यक्रम पूरा कर लिया है. वह वायुसेना के महिला पायलटों के पहले बैच से हैं. उनके साथ अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह ने जुलाई 2016 में फ्लाइंग ऑफिसर्स के तौर पर वायुसेना में कमीशन लिया था.

वायुसेना के प्रवक्ता ग्रुप कैप्टन अनुपम बनर्जी ने कहा, वह दिन के समय लड़ाकू विमान से अभियान को अंजाम देने के लिए योग्‍यता हासिल करने वाली पहली महिला लड़ाकू पायलट बन गई हैं. मौजूदा समय में भावना बीकानेर के नाल बेस पर तैनात हैं. भावना नवंबर 2017 में लड़ाकू स्क्वाड्रन में शामिल हुई थीं और पिछले साल मार्च में मिग-21 बाइसन पर पहली बार अकेले उड़ान भरी थी.

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि रात में अभियान के लिए प्रशिक्षण पूरा करने के बाद उन्हें रात्रि अभियानों को अंजाम देने की इजाजत दी जाएगी. ग्रुप कैप्टन बनर्जी ने कहा, अपनी लगन, कठिन परिश्रम और दृढ़ता से वह यह सफलता हासिल करने वाली वायुसेना की पहली महिला अधिकारी बन गई हैं.