मुंबई: पुणे पुलिस ने एल्गार-परिषद माओवादी संबंध मामले में दलित शिक्षाविद् आनंद तेलतुंबड़े को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया है. ‘गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट’ के प्रोफेसर तेलटुम्बड़े को पुलिस ने शनिवार तड़के मुंबई हवाई-अड्डे से गिरफ्तार कर लिया. इससे एक दिन पहले पुणे की एक विशेष अदालत ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी.

पुणे पुलिस के संयुक्त आयुक्त शिवाजी बोडखे ने बताया कि उन्हें पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया. उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा. गौरतलब है कि अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश किशोर वडाने ने शुक्रवार को पाया कि जांच अधिकारी ने अपराध में आरोपी (तेलटुम्बड़े) की संलिप्तता दिखाने के लिए पर्याप्त सामग्री एकत्रित की है.

पुलिस के अनुसार माओवादियों ने पुणे में 31 दिसम्बर 2017 को एल्गार-परिषद सम्मेलन का समर्थन किया था और यहां दिए गए भड़काऊ भाषण के बाद अगले दिन कोरेगांव-भीमा में हिंसा भड़क गई थी. 28 अगस्त 2018 में पुणे पुलिस द्वारा सात लोगों के घरों में छापामारी की गई थी. इसमें आनंद तेलतुंबड़े भी शामिल थे. इनमें से चार लोग सुधा भारद्वाज, पी. वरवारा राव, वर्नन गोंजाल्विस और अरुण परेरा अभी भी पुलिस हिरासत में हैं.

बता दें कि पुणे पुलिस ने पिछले वर्ष ही इन चारों को गिरफ्तार किया था.