भिवानी (हरियाणा): हरियाणा में चेक बाउंस के मामले में कर्ज में डूबे एक किसान को करीब 15 दिन पहले जेल भेज दिया गया था. वह कारावास में बेहोश होकर गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी है. पुलिस ने बताया कि 64 वर्षीय रणवीर सिंह ने सोमवार को सीने में बेचैनी की शिकायत की थी. इसके बाद वह गिर पड़े. उन्हें यहां एक अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई.

किसानों पर लाठीचार्ज, राहुल गांधी बोले- पिटाई से शुरू हुआ BJP का दो-वर्षीय गांधी जयंती समारोह

शुरू में उनके परिवार ने अंतिम संस्कार के लिए शव लेने या मजिस्ट्रेटी जांच में शामिल होने से इनकार किया. जिला प्रशासन ने कर्ज माफी और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने समेत कुछ मांगों को मान लिया तो उनके रिश्तेदार पोस्टमार्टम कराने और अंतिम संस्कार करने के लिए राजी हुए. पुलिस अधीक्षक गंगा राम पुनिया ने कहा कि ‘(मृतक) के रिश्तेदार अपराध दंड संहिता प्रक्रिया के तहत जांच के लिए सहमत हो गए हैं.

इन 15 मांगों के लिए अड़े हैं किसान, ये है स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश

उपायुक्त अंशाज सिंह ने बताया कि चेक बाउंस होने के मामले में दोषी साबित होने के बाद 21 सितंबर को रणबीर सिंह को जेल भेजा गया था. उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट कहती है कि उनकी मौत संभवत: दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुई है. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन मृतक किसान का कर्ज माफ करने के लिए राज्य सरकार को सिफारिश भेजेगा.