भोपाल: बीते दिनों मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में हुए गैंगरेप पर पुलिस के रवैये पर पीड़िता ने सवाल उठाए है. पीड़िता ने हिम्मत दिखाते हुए मीडिया से चर्चा की और कहा कि GRP पुलिस यानी Government Railway Police इतनी बड़ी वारदात होने के बावजूद भी असंवेदनशील बनी रहीं. पीड़िता ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि जीआरपी पुलिस सबसे बदतमीज पुलिस है. 

न्यूज एजेंसी ANI को अपनी आपबीती बताते हुए पीड़िता ने कहा कि हादसे के बाद वह अपने पिता के साथ इस थाने से उस थाने भटकती रही लेकिन किसी भी पुलिसवाले ने उनकी मदद नहीं की, उल्टा मेरे साथ हुए हादसे पर ही सवाल उठाने लगे.

आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त सजा की मांग करते हुए कहा कि ऐसे लोगों को जिंदा नहीं छोड़ना चाहिए. दुष्कर्म करने वाले को बीच सड़क पर फांसी पर लटका देना चाहिए. पीड़िता ने पुलिस अधिकारी को बताया कि वह दुष्कर्म करने वाले राक्षसों से लड़ेगी और उन्हें सजा दिलवाकर ही रहेगी. उधर, शासन ने पीड़िता को तीन लाख रुपये की आर्थिक मदद और शिक्षा में पूरा सहयोग करने की घोषणा की है.

बता दें कि मध्य प्रदेश राजधानी भोपाल में कोचिंग से घर लौट रही छात्रा से बीती 31 अक्टूबर को 19 वर्षीय छात्रा को 4 लोगों ने अगवा कर हबीबगंज रेलवे स्टेशन के पास सामूहिक दुष्कर्म किया.

बदहवास लड़की को आरोपियों ने मरा हुआ समझकर घटना स्थल पर ही छोड़ दिया था लेकिन कुछ देर होश संभालने के बाद लड़की जैसे-तेसे घर पहुंची और परिजनों की इस पूरे मामले की जानकारी दी. इस मामले में हद तो तब हो गई जब पुलिस मामले को टालती रही और घटना के 24 घंटे होने के बाद भी एफआईआर दर्ज नहीं की.