West Bengal: पश्चिम बंगाल विधानसभा से पहले चल रही सियासी  हलचल के बीच मुख्यमंत्री सह तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी को झटके पर झटके लग रहे हैं. कई नेताओं के पार्टी छोड़ने के बाद अब मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering Case) से जुड़े एक मामले में तृणमूल कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सांसद केडी सिंह (Former TMC MP KD Singh) को नई दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है. 16 जनवरी तक उनकी न्यायिक हिरासत बढ़ा दी गई है, आधिकारिक सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है.Also Read - West Bengal Politics: ममता बनर्जी आज तीसरी बार लेंगी सीएम पद की शपथ, धरने पर बैठेगी BJP

बता दें कि अलकेमिस्ट समूह के प्रमुख केडी सिंह का रोजवैली और सारदा चिटफंड घोटाले में शामिल होने के आरोप लगे थे, इस मामले में पूछताछ के लिए ईडी ने केडी सिंह को बुलाया था. लंबे समय तक पूछताछ के  बाद उनके जवाब से असंतुष्ट होकर ईडी ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है. बता दें कि रोजवैली चिटफंड के आरोप में ईडी ने मंगलवार को केडी सिंह से करीब साढ़े छह घंटे तक पूछताछ की थी. इस पूछताछ में ईडी को उनकी तरफ से सही से जवाब नहीं मिल पाया था. Also Read - Bengal Result: राहुल गांधी ने ममता बनर्जी को दी जीत की बधाई, पर बुरी तरह हो गए ट्रोल

Also Read - West Bengal Election 2021: बंगाल में चौथे चरण के चुनाव में 'खूनी खेल' मौत पर राजनीति जारी

इससे पहले भी ईडी ने केडी सिंह की संपत्ति को सीज किया था. जून, 2019 केडी सिंह से जुड़ी कंपनी की 239 करोड़ रुपये की संपत्तियां अटैच की गई थीं. ईडी ने 1,900 करोड़ रुपये के घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच को लेकर यह कार्रवाई की थी. केडी सिंह की करीब 239 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की गई थी, जिसमें रिजॉर्ट, शोरूम और बैंक खाते भी शामिल थे. केडी सिंह के ठिकानों पर ईडी पहले भी छापेमारी कर चुकी है.