Jammu Kashmir live updates: जम्मू-कश्मीर के बारे में सोमवार को नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा एक के बाद एक लिए गए ऐतिहासिक फैसलों पर विभिन्न राजनीतिक दलों की ओर से लगातार प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. जहां कांग्रेस, पीडीपी, नेशनल कॉन्फ्रेंस और तृणमूल कांग्रेस ने मोदी सरकार के निर्णय की आलोचना की है. वहीं बीजेपी और पीएम मोदी के धुर विरोधी और आलोचक दिल्ली के सीएम तथा आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने केंद्र के इस फैसले का स्वागत किया है. केजरीवाल ने ट्वीट किया- हम जम्मू-कश्मीर पर सरकार के फैसलों का समर्थन करते हैं. हमें उम्मीद है कि इससे राज्य में शांति कायम होगी और विकास होगा.

अब दिल्ली जैसा होगा जम्मू और कश्मीर, चंडीगढ़ जैसा लद्दाख

उधर, नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू भले ही एनडीए में शामिल है, लेकिन उसने जम्मू-कश्मीर पर मोदी सरकार के फैसले का समर्थन नहीं किया है. जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा- हमारे नेता नीतीश कुमार उस परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं, जो जयप्रकाश नारायण, राम मनोहर लोहिया और जॉर्ज फर्नांडिस की परंपरा रही है. इसलिए हमारी पार्टी आज राज्यसभा में पेश किए गए बिल का समर्थन नहीं कर रही है. हमारी अलग सोच है. हम चाहते हैं कि धारा 370 खत्म नहीं हो.

मोदी सरकार के इन पांच प्रहारों से इतिहास बन जाएगी कश्मीर समस्या!

भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने के सरकार के कदम से बाल ठाकरे और अटल बिहारी वाजपेयी का सपना पूरा हुआ है. जम्मू-कश्मीर से 370 को हटाने पर कांग्रेस नेता पी. चिदम्बरम ने कहा कि भारत के संवैधानिक इतिहास में आज काला दिन है.

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने धारा 370 खत्म किए जाने पर कहा है कि सरकार ने एकतरफा फैसला किया है और यह पूरी तरह से धोखा है. उमर अब्दुल्ला ने कहा कि आगे लंबी और मुश्किल लड़ाई है, हम इसके लिए तैयार हैं.

पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने भी मोदी सरकार के इस फैसले को ‘भारतीय लोकतंत्र का सबसे काला दिन’ बताया. उन्होंने कहा कि धारा 370 को भंग करने के लिए भारत सरकार का एकतरफा निर्णय गैरकानूनी और असंवैधानिक है.