नई दिल्ली: भाजपा के चुनावी घोषणापत्र में बिहार में प्रत्येक व्यक्ति को कोरोना वायरस संक्रमण का टीका नि:शुल्क उपलब्ध कराने के वादे से उपजे विवाद के बीच सरकारी अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को कहा कि टीका आने पर उसे एक विशेष कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत लोगों को मुहैया कराया जाएगा.Also Read - कोरोना वायरस से संक्रमित हुए Harbhajan Singh, घर में ही किया गया क्‍वारंटीन

अधिकारियों ने यह भी कहा कि केन्द्र इसकी सीधी खरीद करेगा और इसे सभी प्राथमिकता समूहों को नि:शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा. केन्द्र सरकार ने प्राथमिकता के आधार पर करीब 30 करोड़ लाभार्थियों की पहचान का काम प्रारंभ कर दिया है, जिन्हें शुरुआती चरण में टीका दिया जाएगा. Also Read - कोविड-19 महामारी में डोलो ने तोड़ा बिक्री का रिकॉर्ड, बिकी 350 करोड़ से ज्यादा गोलियां

अधिकारियों ने बताया कि केन्द्र इसकी सीधी खरीद करेगा और इसे सभी प्राथमिकता समूहों को नि:शुल्क उपलब्ध कराएगा. उन्होंने कहा कि राज्यों से खरीद के लिए अलग योजना नहीं बनाने को कहा गया है. Also Read - Covid 19 In Maharashtra: एक दिन में 46,197 लोग हुए संक्रमित, जानें दिल्ली और केरल के आंकड़ें

गौरतलब है कि केन्द्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बृहस्पतिवार को बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा का चुनावी घोषणापत्र जारी किया, जिसमें कोरोना वायरस का टीका आने के बाद इसे लोगों को नि:शुल्क उपलब्ध कराने का वादा किया गया है.

बिहार में कोरोना वायरस वैक्सीन के फ्री वितरण को लेकर विरोधी पार्टियों ने भाजपा पर निशाना साधा है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को कहा कि
भारत सरकार ने कोविड वैक्सीन वितरण की घोषणा कर दी है. ये जानने के लिए कि वैक्सीन और झूठे वादे आपको कब मिलेंगे, कृपया अपने राज्य के चुनाव की तारीख़ देखें. राहुल गांधी के अलावा लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी के लीडर और राज्यसभा सांसद मनोज झा ने कहा कि ये ज़िन्दगी का सौदा भी कर सकते हैं.