पटना: केंद्रीय मंत्रिमंडल में जद (यू) के शामिल नहीं होने पर अब बिहार में सियासी पारा गर्म हो गया है. विपक्षी दल कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में जद (यू) के शमिल नहीं होने को जहां बिहार का अपमान बता रहे हैं बल्कि राजद ने तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से बाहर निकल जाने की नसीहत दे डाली.

नई सरकार का पहला बड़ा फैसला: शहीदों के बच्चों की स्कॉलरशिप बढ़ाई, PM मोदी ने लगाई मुहर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में कांग्रेस के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि भाजपा ने जद (यू) और नीतीश कुमार को छला है. उन्होंने कहा कि जब बिहार से 17 सांसद वाली भाजपा में पांच मंत्री बन सकते हैं तो 16 सांसद वाले जद (यू) को एक ही मंत्री पद देना कहां का न्याय है. उन्होंने कहा कि नीतीश बिहार की जनता का प्रतिनिधित्व करते हैं. ऐसा करना न केवल नीतीश कुमार का अपमान है बल्कि बिहार का भी अपमान है.

मोदी सरकार का एक और बड़ा फैसला: हर किसान को सम्मान योजना का लाभ, 3 हजार रुपए पेंशन भी मिलेगी

इधर, राजद के प्रवक्ता विजय प्रकाश ने कहा कि जद (यू) को कम सीट दिया जाना नीतीश कुमार का अपमान है. उन्होंने कहा कि नीतीश को अब राजग को छोड़कर बाहर हो जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि यह कहीं से उचित नहीं है कि लोजपा के छह सांसदों वाली पार्टी को भी एक मंत्री पद दिया जाए और 16 सांसदों की पार्टी जद (यू) को भी एक ही मंत्री पद दिया जाए. उल्लेखनीय है कि राजग में रहने के बावजूद जद (यू) गुरुवार को मोदीनीत मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुई है.

भाजपा को अपने दम पर बहुमत, सरकार में सांकेतिक प्रतिनिधित्व की जरूरत नहीं: नीतीश कुमार