लंबे समय बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी आसपास बैठे। मौका था लालू प्रसाद यादव द्वारा  दी गई इफ्तार पार्टी के आयोजन का। एक साथ आस-पास बैठने के सवाल पर दोनों नेताओं ने कहा कि यह एक सामाजिक अवसर है जिसमें विभिन्न दलों और अलग-अलग क्षेत्र के लोगों की मौजूदगी स्वभाविक है। Also Read - बिहार: NPR-NRC के खिलाफ प्रस्ताव से महागठबंधन के नेता खुश, BJP में मिली-जुली प्रतिक्रिया

Also Read - हैवानियतः बिहार में डॉक्टर को पेड़ से बांधकर पत्नी और बेटी के साथ गैंग रेप, 20 हिरासत में

मुख्यमंत्री ने मांझी के साथ होने को लेकर पूछे जाने पर कहा, ‘यह एक सामाजिक अवसर है जिससें हर कोई शामिल होता है। मांझी ने संवाददाताओं से कहा कि ‘इस तरह के आयोजन को राजनीति के चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए। बीजेपी की सहयोगी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख मांझी ने कहा कि वह कार्यक्रम में इसलिए शामिल हुए क्योंकि हाल ही में लालू भी उनके द्वारा आयोजित इस तरह के एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। यह भी पढ़ें: हम किसी इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं कर रहे: आरएसएस Also Read - Bihar CM Nitish kumars car Acsident | बिहार: CM नीतीश कुमार की कार का एक्सीडेंट

फोटो क्रेडिट- आज तक

फोटो क्रेडिट- आज तक

आरजेडी अध्यक्ष ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने बीजेपी नेताओं को भी निमंत्रण दिया था लेकिन वे पार्टी से निकाले जाने के डर से नहीं आए। हाल ही में राजद की टिकट पर राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए प्रसिद्ध वकील राम जेठमलानी भी इफ्तार पार्टी के दौरान लालू के साथ बैठे हुए थे।

लालू की पत्नी एवं पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, सांसद बेटी मीसा भारती, छोटे बेटे यानी उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और तेज प्रताप लालू के साथ मेहमानों का स्वागत कर रहे थे और उनके साथ घुलमिल कर बातें कर रहे थे.