नई दिल्ली. साल 2017-18 में राज्यों के विकास दर के मामले में बिहार टॉप पर रहा. बिहार सकल राज्य घरेलू उत्पाद में 17 राज्यों की लिस्ट में 11.3% की दर से नंबर-1 बना. बिहार के बाद आंध्र प्रदेश और गुजरात का नाम है. रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़ों के आधार पर कई मापदंडों पर इसे जारी किया है. हालांकि, छोटा राज्य होने के कारण इस रैंकिंग में गोवा को को शामिल नहीं किया है.

रैंकिंग में ग्रोथ के अनुसार, मुद्रास्फीति और राज्यकोषकीय घाटे में झारखंड, केरल और पंजाब ने सबसे खराब प्रदर्शन किया है. तीनों राज्य रैंकिंग में सबसे नीचे हैं. दूसरी तरफ महंगाई और वित्तीय घाटे की बात करें तो साल 2018 के वित्त वर्ष में गुजरात और कर्नाटकबेहतरीन प्रदर्शन करने वाले शीर्ष तीन राज्यों में शामिल रहे.

पश्चिम बंगाल ने भी किया बेहतर
दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल ने भी इस बार बेहतर प्रदर्शन किया है. पिछली बार जहां उसका 4.8% ग्रोथ था, वहीं इस बार 9.1% रहा. वहीं, महंगाई में 7% से सब-4% पर आ गई और वित्तीय घाटा 3% से 2.4% हो गया. हालांकि, राष्ट्रीय स्तर पर बात करें तो वित्तीय वर्ष 2017-18 में देश की जीडीपी ग्रोथ में सुस्ती देखने को मिली. हालांकि, 17 में 12 राज्यों की विकास दर पिछले पांच सालों के मुकाबले ज्यादा रही.