पटना. बिहार में टॉपर स्कैम के दो साल बाद बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड एक बार फिर चर्चा में है. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, क्लास-12 के कुछ छात्रों का दावा है कि उन्हें टोटल नंबर से ज्यादा मार्क्स मिले हैं. वहीं, कुछ छात्रों का दावा है कि उन्हें उस प्रश्न में नंबर मिले, जिसका जवाब उन्होंने दिया ही नहीं था. Also Read - बिहार: मैट्रिक-इंटर में फेल छात्रों को बड़ी राहत, कोरोना काल में 2.14 लाख अनुत्‍तीर्ण परीक्षार्थी पास क‍िए

अरवल जिले के भीम कुमार के मुताबिक, मैथ (थ्योरी) में उन्हें 35 में से 38 नंबर मिले. वहीं, ऑब्जेक्टिव टाइप सवालों में उ्हें 35 में 37 नंबर मिले. उन्होंने कहा कि वह इसे लेकर अचंभित नहीं हुए, क्योंकि राज्य बोर्ड की परीक्षा में ऐसा पिछले कई साल से हो रहा है. Also Read - Bihar STET Latest News: बिहार बोर्ड अब ऑनलाइन आयोजित करेगा एसटीईटी की परीक्षा, जानिए एग्जाम से जुड़ी तमाम बातें 

ऐसे ही पूर्वी चंपारण के रहने वाले संदीप राज ने कहा, फिजिक्स (थ्योरी) पेपर में 35 में 38 नंबर पाए. उन्होंने कहा, यह कैसे संभव है? वहीं, उन्हें इंग्लिश और राष्ट्रभाषा के ऑब्जेक्टिव टाइप पेपर में 0 नंबर मिले. उन्होंने कहा, दरभंगा के रहने वाले राहुल कुमार को मैथ्स ऑब्जेक्टिव में 35 में से 40 नंबर मिले. Also Read - Bihar STET 2019: बिहार में शिक्षकों की बंपर वैकेंसी, ऐसे करें आवेदन

वैशाली की रहने वाली जाह्नवी सिंह ने कहा, बायोलॉजी पेपर उन्होंने कभी दिया ही नहीं, लेकिन उन्हें 18 नंबर मिले. पटान के राम कृष्ण द्वारिका कॉलेज के रामकुमार का कहना है कि उन्होंने जो पेपर नहीं दिया, उसमें नंबर मिला.