बीजू जनता दल (BJD) विधायक प्रदीप महारथी (Pradeep Maharathy) का रविवार सुबह एक निजी अस्पताल में निधन हो गया. वह 65 वर्ष के थे. पुरी जिले के पिपिली से सात बार के विधायक महारथी के परिवार में पत्नी प्रतिभा, बेटे रुद्र प्रताप और बेटी पल्लवी हैं. महारथी 14 सितंबर को कोविड​​-19 से संक्रमित पाए गए थे. उन्हें स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी, लेकिन बाद में उनकी हालत गंभीर हो जाने के कारण उन्हें फिर से अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह शुक्रवार से वेंटिलेटर पर थे. Also Read - अभिनेत्री पत्नी वर्षा प्रियदर्शनी से तलाक लेंगे BJD सांसद अनुभव मोहंती, लगाए ये गंभीर आरोप...

महारथी ने पुरी के एससीएस कॉलेज के एक छात्र नेता के रूप में अपना करियर शुरू किया था. वह 1985 में जनता दल में शामिल हो गए और पिपिली निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा के लिए चुने गए. उन्हें आपातकाल के दौरान मीसा (आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था अधिनियम) के तहत गिरफ्तार किया गया था. महारथी ने बाद में भी पिपिली से कई बार चुनाव जीता. वह 2000 में बीजद में शामिल हो गये. Also Read - School Reopening Latest News: दुर्गा पूजा की छुट्टियों तक इस राज्य में बंद रहेंगे स्कूल, कॉलेज, पैरेंट्स और छात्रों की चिंता को देखते हुए लिया गया ये फैसला  

उन्हें 2011 में नवीन पटनायक मंत्रिमंडल में शामिल किया गया और उन्होंने कृषि, मत्स्य पालन, पंचायती राज और पेयजल विभागों का कार्यभार संभाला. कृषि मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान ओडिशा को लगातार चार वर्षों तक कृषि कर्मण पुरस्कार मिला. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने महारथी के निधन पर गहरा दु: ख व्यक्त किया और उन्हें बीजद का ‘निष्ठावान’ नेता और बीजू पटनायक का पुराना सहयोगी बताया. Also Read - लॉकडाउन के बीच बढ़ रहे घरेलू हिंसा पर लगे लगाम, इसलिए नवीन पटनायक ने जारी किया ये आदेश...

पटनायक ने शोक संदेश में कहा, ‘वह लोगों के सच्चे नेता थे. मैं शोक संतप्त परिवार और पिपिली के लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं.’ उन्होंने कहा कि महारथी के पार्थिव शरीर का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा. ओडिशा के राज्यपाल गणेशी लाल, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान एवं प्रताप सारंगी और राज्य के कई मंत्रियों ने महारथी के निधन पर शोक व्यक्त किया. राज्यपाल ने कहा, ‘महारथी एक लोकप्रिय नेता और सक्षम विधायक थे। उनके असामयिक निधन से राजनीति को बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा है.’