नई दिल्ली: तेलुगूदेशम पार्टी द्वारा केंद्र सरकार से अपने दो मंत्रियों के इस्तीफे की घोषणा के बाद बीजेपी ने चुप्पी तोड़ी है. बीजेपी ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपी के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू द्वारा मोदी सरकार पर राज्य की अनदेखी करने के आरोपों को खारिज कर दिया है. बीजेपी के प्रवक्ता जीवीएल नरसिंह राव ने कहा कि केंद्र सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि राज्य के विभाजन के बाद आंध्र प्रदेश को बुनियादी संरचना और उद्योग के क्षेत्र में समस्त संसाधन मिलें. Also Read - TDP प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने CM जगनमोहन रेड्डी से कहा: अमरावती से न हटाएं राजधानी

राव के बयान से कुछ समय पहले ही नायडू ने एक संवाददाता सम्मेलन में ऐलान किया कि उनकी पार्टी के दो केंद्रीय मंत्री अशोक गजपति राजू और वाई एस चौधरी सरकार से इस्तीफा देंगे. Also Read - तेलंगाना आरटीसी की हड़ताल पर राजनीति, कई पार्टियों ने किया कर्मचारियों का समर्थन

वहीं कांग्रेस ने टीडीपी के कदम को बहुत देरी से उठाया गया कदम बताया है. आंध्र प्रदेश से वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एम एम पल्लम राजू ने कहा, ‘‘ यह बहुत देरी से किया गया है. टीडीपी चार साल से बीजेपी की सहयोगी है और आंध्र प्रदेश के हितों के संरक्षण के लिए उसने कुछ नहीं किया.’’ उन्होंने कहा कि राज्य में जनता के मूड को देखते हुए टीडीपी यह राजनीतिक रुख दर्शा रही है. Also Read - आंध्र प्रदेश में गरीब लोगों को 5 रुपये में भरपेट खाना खिलाने वाली अन्ना कैंटीनें बंद

भाषा इनपुट