जगदलपुर: छत्तीसगढ़ में सरकार की ओर से निकाली जा रही बीजेपी की विकास यात्रा को कोंटा के विधायक कवासी लखमा ने ‘विनाश यात्रा’ का दर्जा दिया है. सोमवार को कांग्रेस भवन में पत्रकार वार्ता के दौरान संभाग के अंदरूनी क्षेत्रों के विकास का ब्यौरा देते हुए लखमा ने कहा कि आजादी के बाद सबसे ज्यादा किसी क्षेत्र का विकास हुआ था तो वह विखंड कोंटा था. कांग्रेस के शासनकाल में इंजेरम-भेज्जी, भेज्जी-चिंतागुफा, साथ ही दोरनापाल-जगरगुंडा जैसे बीहड़ क्षेत्रों में सड़कों का जाल बिछाया गया. लेकिन बीजेपी के पंद्रह साल के शासनकाल में सड़कों का संधारण और मरम्मत नहीं होने से आवागमन बहुत प्रभावित हो रहा है.

उन्होंने कहा कि इसके अलावा जगरगुंडा, चिंतलनार, गोलापल्ली, बंडा और मेहता सहित कई अंदरूनी क्षेत्रों में आश्रम संचालित होता था. बीजेपी ने इन आश्रमों को सड़क किनारे विस्थापित कर दिया, जिससे ग्रामीण बच्चे शालाओं से दूर हो गए. विधायक ने कहा कि 1998 से 2003 के बीच सभी विकास कार्य कांग्रेस ने करवाए, जबकि बीजेपी के कार्यकाल में कुछ भी नहीं हुआ. साल 2006 के पहले दोरनापाल से जगरगुंडा तक राज्य परिवहन की बसें चलती थीं, लेकिन उन्हें भी बंद करवा दिया गया. बीजेपी के शासनकाल में सब नष्ट कर दिया गया. ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली का नामोनिशान तक नहीं है, लेकिन बीजेपी इसे विकास का नाम दे रही है.

सरकार विकास का कर रही है ढोंग..
लखमा ने कहा कि तेंदूपत्ता 300 रुपये प्रति सैकड़ा की दर से खरीदने के लिए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ. पड़ोसी राज्य के मलकानगिरि में 350 रुपये प्रति सैकड़ा की दर से खरीद होती है. दर सही नहीं मिलने से छत्तीसगढ़ के संग्राहक मलकानगिरि जाकर तेंदूपत्ता बेच रहे हैं. फिर भी बीजेपी इसे विकास कह रही है. वहीं चित्रकोट के विधायक दीपक बैज ने कहा कि सरकार विकास कर नहीं रही है, बल्कि विकास का ढोंग रच रही है. तेंदूपत्ता तोड़ाई पूरी तरह से बंद है, गांव में पीने का स्वच्छ पानी तक नहीं है, अंदरूनी क्षेत्रों में बिजली नहीं है, सड़क नहीं है. यही नहीं, सरकारी राशन की कालाबाजारी हो रही है. बाजार बंद हैं, सोसाइटी, उचित मूल्य की दुकानें बंद पड़ी हैं, 15 साल में दोरनापाल से जगरगुंडा तक 5 किलोमीटर सड़क का निर्माण भी नहीं हो सका है, लेकिन भाजपा इसे विकास कह रही है.

विकास यात्रा के नाम पर लाखों लोगों को होना पड़ा परेशान..
शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा कि महज दो दिनों में ही समूचे शहर सहित अन्य जिलों में विकास यात्रा के नाम पर लाखों लोगों को परेशान होना पड़ा. भीषण गर्मी में शहर के विभिन्न वार्डो में बिजली काट दी गई, जिससे 10 हजार से अधिक लोग, बच्चे, बुजुर्ग सब परेशान रहे. उन्होंने कहा कि रविवार को कांकेर में विकास यात्रा के नाम पर कई यात्री बसों को दोपहर लगभग 3.30 बजे से रोक दिया गया. बाद में ये बसें अपने गंतव्य स्थल पर शाम 7.30 बजे पहुंचीं. इस दौरान कई दूधमुंहे बच्चे, माताएं, बुजुर्ग और ग्रामीण परेशान रहे. विकास यात्रा के नाम पर बीजेपी जनता के पैसे बर्बाद कर जनता को ही परेशान कर रही है. आगामी चुनाव में जनता बीजेपी को कड़ा जवाब देगी.

(इनपुट-एजेंसी)