हैदराबाद: वंशवादी राजनीति पर हमला बोलते हुए केंद्रीय मंत्री नीतिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि भाजपा कोई मां बेटा और पिता पुत्र जैसी ‘पारिवारिक पार्टी’ नहीं बल्कि यह आम लोगों की पार्टी है जहां उनके जैसा छोटा कार्यकर्ता पार्टी अध्यक्ष और एक चाय विक्रेता देश का प्रधानमंत्री बन सकता है. गडकरी ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति और अत्यंत पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षण को कम किये बगैर आर्थिक रूप से सामान्य वर्ग के लोगों के लिए नौकरियों में और शैक्षिक संस्थाओं में दस फीसदी का आरक्षण देने का ऐतिहासिक निर्णय किया है.

कांग्रेस में परिवारवादः प्रियंका गांधी के बाद अब इस ‘महारानी’ को सियासत में लाने की मांग

केंद्र सरकार और केंद्रीय मंत्री का धन्यवाद करने के लिए यहां विभिन्न संगठनों द्वारा आयोजित समारोह में गडकरी बोल रहे थे. उन्होंने कहा, ‘‘हमारी पार्टी मां बेटे, और पिता पुत्र की पार्टी की तरह पारिवारिक दल नहीं है. मैं पार्टी का एक साधारण कार्यकर्ता था और पोस्टर चिपकाता था.’’ उन्होंने कहा, ‘‘न तो मेरी मां विधायक थी और न ही मेरे पिताजी सांसद थे.’’

‘भाबी जी घर पर हैं’ वाली ‘अंगूरी भाभी’ अब करेंगी पॉलिटिक्स, थामा कांग्रेस का हाथ

गडकरी ने कहा कि किसी पद की आकांक्षा में वह कभी दिल्ली भी नहीं गए. मंत्री ने कहा, ‘‘इन सबके बावजूद मेरे जैसा जमीनी स्तर पर काम करने वाला कार्यकर्ता भाजपा का (पूर्व) अध्यक्ष बन जाता है और गरीब परिवार से आने वाला एक चाय विक्रेता देश का प्रधानमंत्री बन जाता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा आम आदमी की पार्टी है. हम कभी जाति, धर्म और भाषा के स्तर पर नहीं सोचते हैं.’’ वंशवादी राजनीति पर प्रहार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने खास तौर से कांग्रेस को निशाना बनाया और कहा कि यह ‘‘मां बेटे’’ की पार्टी है.