मुंबई: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने बुधवार को विवादित नागरिकता (संशोधन) विधेयक को राज्यसभा की मंजूरी मिलने पर खुशी जताते हुए शिवसेना पर निशाना साधा. शिवसेना ने लोकसभा में इस विधेयक को समर्थन दिया था, लेकिन राज्यसभा में इसपर मतदान नहीं किया. फडणवीस ने कहा कि उन्हें शिवसेना पर तरस आ रहा है, जिसने सत्ता के लालच में विचारधारा से समझौता किया.

नागरिकता संशोधन ब‍िल के विरोध में असम में उग्र प्रदर्शन, गुवाहाटी में लगा कर्फ्यू

जवाब में शिवसेना के नेता संजय राउत ने भाजपा पर यह कहते हुए कटाक्ष किया कि हमें किसी से देशभक्ति का प्रमाणपत्र लेने की जरूरत नहीं है. आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं.उच्च सदन में सीएबी पर चर्चा में भाग लेते हुए शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि यह कहा जा रहा है कि जो इस विधेयक का विरोध कर रहा है वह देशद्रोही है और जो इसका समर्थन कर रहा है वह देशभक्त है.

नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ असम में भड़का गुस्सा, अर्द्धसैनिक बलों के 5, 000 जवान भेजे गए 

इसी बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक इतिहास के पन्नों पर स्वर्ण अक्षरों में लिखा जायेगा और यह धार्मिक प्रताड़ना के पीड़ित शरणार्थियों को स्थायी राहत देगा. सूत्रों ने बताया कि भाजपा संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले छह महीने में सरकार ने जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जा संबंधी प्रावधानों को समाप्त करने, अर्थव्यवस्था की मजबूती, किसानों सहित विविध क्षेत्रों में ‘ऐतिहासिक कार्य’ किये हैं और पार्टी सांसद इन कार्यों को जनता के बीच ले जाएं.