धर्मशाला (हिमाचल प्रदेश): कांगड़ा से भाजपा सांसद किशन कपूर ने केन्द्र से तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ प्रदान करने की मांग की है. इसके साथ ही सांसद ने ये भी कहा कि चीन से तिब्बत की स्वतंत्रता का आह्वान किया जाए. Also Read - पटोले बोले भारत रत्न पर शिवसेना के अलग हमारा स्‍टैंड, सावित्रीबाई फुले, शाहूजी महाराज को मिलेे सम्‍मान

किशन कपूर ने यहां सोमवार को दलाई लामा को उनके जन्मदिन की बधाई दी और कहा कि तिब्बती आध्यात्मिक नेता को उनके 85वें जन्मदिन पर केन्द्र सरकार की ओर से यह बेहतर उपहार होगा. तिब्बत की पूर्ण आजादी की मांग का समर्थन करते हुए कपूर ने कहा कि जिस तरह से ज्यादतियों के जरिए चीन ने इस पर कब्जा किया है, वह दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि चीन को एक अच्छे पड़ोसी की तरह बिना हिंसा के सीमा विवाद के समाधान के लिए आगे आना चाहिए और तिब्बत को दलाई लामा को ‘‘सौंप’’ देना चाहिए. Also Read - Raj Thackeray VIDEO: राज ठाकरे ने ये क्या कह दिया-सचिन-लता भारत रत्न, अक्षय कुमार का ही करें इस्तेमाल

बता दें कि दलाई लामा सोमवार को 85 साल के हो गए और इस अवसर पर यहां तिब्बत की निर्वासित सरकार के अधिष्ठान पर प्रार्थना और अनुष्ठान के द्वारा दलाई लामा का जन्मदिन मनाया गया. इस दौरान भारत और चीन के बीच हुई झड़प में शहीद हुए भारतीय सैनिकों को भी श्रद्धांजलि दी गई. अपने आवास से बौद्ध समुदाय के लिए जारी किए गए संदेश में तिब्बती आध्यात्मिक गुरु ने लोगों से मंत्र जपने को कहा. Also Read - Bharat Ratna देने के कैंपेन पर Ratan Tata का आया जवाब, बोले- मैं भाग्यशाली हूं...

दलाई लामा ने कहा कि आपकी प्रार्थना की शक्ति से मैं अवलोकितेश्वर (बुद्ध का एक नाम) का संदेशवाहक, 110 या 108 वर्ष जी सकता हूं. इस साल कोरोना वायरस फैलने के खतरे को देखते हुए पाबंदियों के चलते दलाई लामा का जन्मदिन सादगी से मनाया गया. इस अवसर पर मक्लिओडगंज में स्थित समुदाय के मुख्य मंदिर में प्रार्थना का आयोजन किया गया.

तिब्बत की निर्वासित संसद ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, “हम प्रार्थना करते हैं ताकि परम पावन दलाई लामा सौ कल्प तक जिएं, उनकी सारी इच्छाएं तत्काल पूरी हों और तिब्बत का लक्ष्य निश्चित ही पूरा हो.” तिब्बत पर चीन द्वारा कब्जा करने के लिए सशस्त्र आक्रमण शुरू करने के लगभग एक दशक बाद 17 मार्च 1959 को दलाई लामा ने 24 वर्ष की आयु में भारत में शरण ली थी. वक्तव्य में कहा गया कि कम्युनिस्ट शासन वाले चीन की सेना सीमा पर भारत में घुसने के लिए लगातार प्रयास कर रही है.

वक्तव्य के अनुसार तिब्बत की निर्वासित संसद ने गलवान घाटी में शहीद हुए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि दी. धर्मशाला में दलाई लामा के कार्यालय ने कहा कि धर्मगुरु के जन्मदिन के अवसर पर दुनियाभर के नेताओं ने शुभकामनायें भेजी. केन्द्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने दलाई लामा को उनके जन्म दिन पर शुभकामनाएं दीं.