नई दिल्ली: दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि 10वें सिख गुरू गोविंद सिंह के नाबालिग पुत्रों (छोटे साहबजादों) के शहादत दिवस को जवाहरलाल नेहरू की जयंती के स्थान पर ‘बाल दिवस’ घोषित किया जाए. इससे पहले पश्चिम दिल्ली से भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने भी पिछले साल इस तरह की मांग उठाई थी. Also Read - Kisan Andolan: किसान नेता का बड़ा ऐलान, 'ट्रैक्टर रैली के बाद, 1 फरवरी को संसद की ओर पैदल मार्च करेंगे'

  Also Read - Kisan Andolan: मुंबई रैली में गरजे शरद पवार, पीएम मोदी से पूछा, क्या ये किसान पाकिस्तान के हैं?

बीजेपी सांसद तिवारी ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में कहा कि ‘छोटे साहबजादे’ जोरावर सिंह और फतेह सिंह ने 1705 में धर्म की रक्षा करते हुए पंजाब के सरहिंद में शहादत दी थी. तिवारी ने पत्र में लिखा, मेरे विचार से उनकी शहादत वाले दिन ‘बाल दिवस’ मनाकर इन बहादुर बच्चों के बलिदान को याद करना देशभर के बच्चों के लिए प्रेरणास्रोत रहेगा.

तिवारी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की जयंती 14 नवंबर को 1956 से देश में ‘बाल दिवस’ के रूप में मनाई जाती है, क्योंकि नेहरू बच्चों में अत्यंत लोकप्रिय थे. बीजेपी सांसद ने पत्र में लिखा, मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि इन बहादुर छोटे साहबजादों के साहस और बलिदान को देखते हुए उनकी शहादत वाले दिन को बाल दिवस घोषित किया जाए.