Meenakshi-Lekhi,-Arvind-Kejriwal,-Arvinder-Singh-Lovely-22

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान का भाजपा खुलकर समर्थन करती नजर आ रही हैं। ज्ञात हो कि भागवत ने सोमवार को नोबेल प्राइज विजेता मदर टेरेसा के बारे में विवादास्पद बयान देते हुए कहा था कि वह सेवा करने के बहाने धर्मांतरण कराती थीं।

पूर्व संघ चीफ और प्रवक्ता एमजी वैद्य ने कहा कि मिशनरीज के काम हमेशा संदिग्ध होते थे। वहीं आरएसएस का कहना है कि भागवत के बयान को गलत तरीके से पेश किया गया। संगठन के आधिकारिक टि्वटर हैंडल पर कहा गया कि मीडिया गलत तरीके से रिपोर्ट दे रहा है। मोहन भागवत का फिर विवादित बयान, कहा मदर टेरेसा का असली मकसद था धर्मांतरण

भागवत के विवादित बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने अपने सांसदों को किसी तरह के विवादास्पद बयान देने से बचने की सलाह दी है। भाजपा सांसद कई बार पत्रकारों के सवाल पूछे जाने के बाद ऐसे बयान दे देते हैं जिससे बड़ा विवाद खड़ा हो जाता है और विपक्ष को संसद मे सरकार को घेरने का मौका मिल जाता है।

गौरतलब हैं कि भरतपुर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के पूर्व महानिदेशक ने कहा था कि मदर टेरेसा ने उद्देश्य के साथ सेवा की थी। इसके जवाब में भागवत ने कहा था कि जैसा कि डॉ. एम. वैद्य ने बताया कि मदर टेरेसा के सेवा का उद्देश्य था। लेकिन हम बदले में किसी चीज की अपेक्षा किए बगैर सेवा करते हैं।  धर्मातरण के मसले पर भाजपा -आरएसएस में आर-पार की लड़ाई शुरु

इसके अलावा बीजेपी भी इस मामले में भागवत के साथ खड़ी नजर आ रही है। कांग्रेस पर राजनीतिक फायदा उठाने का आरोप लगाते हुए बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस के वफादार रहे नवीन चावला की किताब पढ़ें जिसमें मदर टेरेसा ने स्वीकार किया था कि उनका काम लोगों को ईसाई धर्म में लाना है।

भागवत को केजरी ने दी नसीहत।
मोहन भागवत के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए आम आदमी पार्टी नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को ट्वीटर पर लिखा कि मुझे उनके साथ कुछ वक्त काम करने का मौका मिला था।  मदर टेरेसा महान, उन्हें बख्श दें : केजरीवाल

वह एक महान आत्मा थीं। इस तरह का बयान देश के लोगों को आहत करता है। केजरीवाल ने लिखा, ‘मैंने कुछ महीने कोलकाता स्थित निर्मल हृदय आश्रम में मदर टेरेसा के साथ काम किया है। वह महान इंसान थीं, उन्हें बख्श दिया जाए। यह भी पढ़े- भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने फिर दिया विवादित बयान कहा हर मस्जिद में लगाएंगे गणेश की मूर्ति

रॉबर्ट वाड्रा ने भागवत के बयान पर जताया विरोध।
जमीन घोटाले से लेकर हमेशा विवादों में रहनेवाले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने भी भागवत के इस बयान पर कड़ा विरोध जताया है वाड्रा ने फेसबुक पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा। भारतीय मुस्लिम और ईसाई भी कभी हुआ करते थे हिन्दू: प्रवीण तोगड़िया

वाड्रा ने लिखा कि इस तरह के बयान से उन्हें काफी दुख पहुंचा है. उन्होंने मदर टेरेसा के आश्रम में काम किया और इस दौरान उन्हें बहुत कुछ सिखने को मिला। मैं प्रार्थना करता हूं कि मदर टेरेसा पर इस तरह की टिप्पणी ना करें उन्होंने अपना पूरा जीवन दूसरों के नाम कर दिया। धर्मातरण नहीं , लोगों का दिल जीतने निकले हैं: अशोक सिंघल

घर वापसी जारी रहेगी- योगी आदित्यनाथ
ज्ञात हो कि यह कोई पहला मामला नहीं हैं जिसे लेकर विवाद खड़ा हुआ हो। धर्मातरण पर आरएसएस, वीएचपी और भाजपा नेताओं के विवादित बयान लगातार आते रहे हैं।वही बता दे कि मंगलवार को ही उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने धर्मातरण पर खुले आम चुनौती देकर खलबली मचा दी हैं।

योगी ने कहा कि जब तक धर्मांतरण पर पाबंदी नहीं लगाई जाती तब तक विहिप का ‘घर वापसी’ कार्यक्रम जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत की समस्या ‘गरीबी नहीं’ बल्कि ‘जेहादी सोच वाली वोट बैंक राजनीति है। भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने दी खुली चुनौती, कहा जब तक धर्मांतरण पर कानून नहीं, ‘घर वापसी’ जारी रहेगी