नई दिल्‍ली: बीजेपी सांसद (BJP MP) प्रज्ञा सिंह ठाकुर(Pragya Singh Thakur ) ने लोकसभा (Lok Sabha) में बीते बुधवार को  नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) को लेकर दिए गए विवादित बयान को लेकर आज शुक्रवार को भरे सदन में माफी मांग ली, लेकिन साथ ही कांग्रेस पर पलटवार भी किया. बीजेपी सांसद ने कहा, सदन के एक सदस्‍य ने मुझे आतंकवादी बताया है.

बता दें संसद और इसके बाहर पिछले तीन दिनों से बयान पर बवाल मचा हुआ था. लेकिन कांग्रेस बीजेपी सांसद प्रज्ञा की सदस्‍यता को खत्‍म करने की मांग पर अड़ी हुई है. इसको लेकर लोकसभा में विपक्ष ने खूब हंगामा किया.

लोकसभा में बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, संसद में बयानों को तोड़ा-मरोड़ा जा रहा है. मैं देश को महात्‍मा गांधी के योगदान का सम्‍मान करती हूं. मैं सदन में की गई किसी भी टिप्‍पणी से किसी भी प्रकार से किसी को भी ठेस पहुंची हो तो उसके लिए मैं खेद प्रकट करत क्षमा चाहती हूं. उन्‍होंने कहा, सदन के एक सदस्‍य ने मुझे आतंकवादी बताया, यह मेरे सम्‍मान पर हमला है. कोर्ट में मेरे खिलाफ कोई आरोप सिद्ध नहीं हुआ है.

आरोप सिद्ध हुए बिना मुझे आतंकवादी बताया
प्रज्ञा ने कहा, ”मेरे बयान का संदर्भ कुछ और था.” उन्होंने कहा, ‘‘इसी सदन के एक सदस्य ने सार्वजनिक तौर पर मुझे आतंकवादी कहा. मेरे साथ तत्कालीन सरकार द्वारा रचे गये षड्यंत्र के बावजूद अदालत में मेरे खिलाफ कोई आरोप सिद्ध नहीं हुआ है. बिना दोषी सिद्ध हुए मुझे आतंकवादी कहना कानून के खिलाफ है. कोई आरोप सिद्ध हुए बिना मुझे आतंकवादी बताना एक महिला के नाते, एक संन्यासी के नाते, एक सांसद के नाते मेरे सम्मान पर हमला करके अपमानित करने का प्रयास है.’’

विपक्ष का हंगामा,कहा- बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए
प्रज्ञा के बयान के बीच ही विपक्ष के सदस्य खड़े होकर विरोध जताने लगे. हालांकि, भाजपा सदस्य विपक्षी सदस्यों की नारेबाजी का विरोध करते देखे गए.कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि जिस तरह से सत्तारूढ़ पार्टी के लोग कर रहे हैं, उससे लगता है कि वह समर्थन कर रहें हो. ”हमारा कहना है कि इस सदस्य को अपनी टिप्पणी के लिए बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए.

राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन के प्रस्‍ताव की मांग
जब कांग्रेस सदस्य प्रज्ञा ठाकुर से बिना शर्त माफी मांगने की मांग करे रहे थे, तब भाजपा सदस्य निशिकांत दूबे ने कहा कि राहुल गांधी ने कथित तौर पर एक वर्तमान सदस्य (प्रज्ञा सिंह ठाकुर) को आंतकी बताया. ऐसे में राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाना चाहिए.

यह बात पूरी दुनिया में फैल गई
डीएमके सदस्य ए राजा ने कहा कि भाजपा सदस्य की बात को कार्रवाई से निकाल भी दिया गया हो, तब भी यह बात पूरी दुनिया में फैल गई . सदन में कोई भी बात कही जाती है, तो उस पर संज्ञान लेना चाहिए.

अदालती मामले का बचाव करने की अनुमति नहीं
सपा के मुलायम सिंह ने कहा कि स्पीकर को 5-10 मिनट के लिए कार्यवाही स्थगित करके सभी दलों के नेताओं के साथ चर्चा करनी चाहिए. बसपा के दानिश अली ने इस मामले में प्रज्ञा ठाकुर से बिना शर्त माफी मांगने की मांग की और कहा कि उन्हें अदालती मामले का बचाव करने की अनुमति नहीं दी जा सकती.

अब आसन को ही कोई निर्णय करना है
एआईएमआईएम के असादुद्दीन औवैसी ने कहा. बीजेपी के भतृहरि महताब ने कहा कि इस मामले में अब आसन को ही कोई निर्णय करना है. जितनी बार सत्ता पक्ष बयान दे, विपक्ष उससे संतुष्ट नहीं होगा. इस पर किसी प्रस्ताव के जरिये ही चर्चा की जा सकती है. स्पीकर कार्रवाई की रिकार्डिंग मंगा कर देख लें ताकि कोई भ्रम की स्थित न रहे.

गांधी के सिद्धांतों का अनुशरण पूरा विश्‍व करता है
सदन में शोर के बीच लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिडला ने कहा, महात्‍मा गांधी के सिद्धांतों का अनुशरण न केवल यह देश बल्कि पूरा विश्‍व करता है. उन्‍होंने कहा, हमें इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए. अगर हम करेंगे तो यह पूरी दुनिया के सामने होगा. इसलिए मैंने कहा था कि टिप्‍पणी को रिकॉर्ड नहीं किया जाएगा.

हत्‍या को महिमा मंडित करने की इजाजत नहीं
स्‍पीकर ने कहा, महात्‍मा गांधी की हत्‍या को महिमा मंडित करने की इजाजत यह सदन न तो अंदर और न ही बाहर इजाजत देता है. कल रक्षामंत्री ने सरकार की ओर से स्‍पष्‍टीकरण दिया था. सांसद (Pragya Singh Thakur) ने भी माफी मांग ली है.