Live Updates

  • 5:08 PM IST

    हमने पावर के लिए एलायंस नहीं किया था. बड़े मकसद के लिए एलायंस किया था. बातचीत के लिए किया, सीजफायर के लिए किया, 11 हजार नौजवानों पर केस वापस लेने के लिए किया. – महबूबा मुफ्ती

  • 5:07 PM IST

    हमारी कोशिशों से सीजफायर हुआ. जम्मू कश्मीर दुश्मनों की टेरिटरी नहीं. ताकत की पॉलिटिक्स यहां नहीं चल सकती. 11 हजार नौजवानों के खिलाफ केस वापस लिया. हमारे वर्कर्स ने बहुत कुछ सहा. मगर वे खड़े रहे, सपोर्ट किया. मुफ्ती साहब ने जिस मकसद से ये एलायंस किया था वो कामयाब रही. हमने बातचीत की पूरी कोशिश और आगे भी हमारी यही कोशिश रहेगी. – महबूबा मुफ्ती

  • 5:04 PM IST

    महबूबा मुफ्ती ने कहा-

    मैंने अपना इस्तीफा गर्वनर को भेज दिया है. लोगों के विचारों के उलट हमने बड़े विजन के लिए गठबंधन किया था. जम्मू कश्मीर को मुश्किल से बाहर निकालने के लिए केंद्र सरकार की ताकतवर पार्टी से हाथ मिलाया था. पाकिस्तान से बेहतर रिश्ता बनाना हमारा मकसद था. पीडीपी को इसके लिए समर्थन मिला. स्पेशल स्टेटस 370 को लेकर हमने कोर्ट में दलील रखी, लोगों का डर दूर किया. रमजान में आर्मी ऑपरेशन रुकवाया.
  • 5:01 PM IST

    श्रीनगर में महबूबा मुफ्ती की प्रेस कांफ्रेंस

  • 5:01 PM IST

  • 5:01 PM IST

    जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दिल्ली में हाई लेवल मीटिंग. राजनाथ सिंह, एनएसए अजीत डोवाल, गृह सचिव मौजूद.

  • 4:37 PM IST
    उमर अब्दुल्ला ने कहा, राज्य में राज्यपाल शासन लागू हो लेकिन ज्यादा दिनों तक नहीं. चुनाव कराए जाएं जिसमें हम दोबारा जनादेश हासिल करेंगे.

  • 4:25 PM IST

  • 4:20 PM IST

    राज्यपाल एनएन वोहरा से मुलाकात की. मैंने उन्हें कहा कि राज्य में गवर्नर रूल लगना चाहिए. हम सरकार बनाने नहीं जा रहे हैं. 2014 में बहुमत नहीं थी और न ही आज है. न हम गठबंधन बनाएंगे न किसी ने कहा है. हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि राज्य के हालात जल्द से जल्द सुधरें – उमर अब्दुल्ला

  • 4:17 PM IST

    शिवसेना ने काह- बीजेपी-पीडीपी गठबंधन की कीमत जवानों को चुकानी पड़ी.

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी और पीडीपी के बीच गठबंधन टूट गया है. बीजेपी ने आज गठबंधन सरकार से समर्थन वापस ले लिया. बीजेपी नेता राम माधव और दूसरे नेताओं ने प्रेस कांफ्रेंस में इसका ऐलान किया. राम माधव ने  कहा कि जिन उद्देश्यों को लेकर गठबंधन सरकार बनाई गई थी, वो पूरे नहीं हुए. हमने शांति के लिए गठबंधन किया था. घाटी में हालात बेहद खराब हैं. आज कश्मीर में कट्टरता बहुत बढ़ गई है. पत्रकार शुजात बुखारी की दिन दहाड़े श्रीनगर में हत्या कर दी गई. फ्रीडम ऑफ स्पीच भी निशाने पर है. यहां प्रेस की आजादी भी खतरे में है. केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर को पूरी आर्थिक मदद दी. रमजान में ऑपरेशन रोकना हमारी मजबूरी नहीं थी. हमने शांति की उम्मीद में ऑपरेशन रोका था .